Lockdown: दिल्ली के इन 5 रेलवे स्टेशनों पर हर दिन मिलता है 10 हजार मजदूरों को खाना

रेलवे के डॉक्टर खाना लेने आए शख्स की थर्मल स्क्रीनिंग करते हैं, इसका पूरा रिकॉर्ड रखा जाता है.

Lockdown: दिल्ली के इन 5 रेलवे स्टेशनों पर हर दिन मिलता है 10 हजार मजदूरों को खाना
नई दिल्ली स्टेशन के बाहर मजदूरों का खाना बांटते वक्त खींची गई फोटो.

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान दिल्ली में रह रहे दिहाड़ी मजदूरों और बेघर लोगों की मदद के लिए रेलवे सामने आई है. लॉकडाउन के दौरान दिल्ली के 5 बड़े रेलवे स्टेशनों पर लोगों को दोपहर और रात का खाना दिया जा रहा है. खास बात ये है कि खाना बांटते वक्त सोशल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजेशन का पूरा ध्यान रखा जा रहा है.

जब लोग खाना लेने के लिए आते हैं तो उन्हें लाइन में दूर-दूर खड़ा किया जाता है, इसके लिए सड़क पर निशान भी बनाए गए है. अगर किसी ने मुंह पर मास्क नहीं लगाया है तो उसे पहले मास्क दिया जाता है. इसके बाद सभी लोगों के सैनिटाइजर से हाथ साफ करवाए जाते हैं. फिर रेलवे के डॉक्टर खाना लेने आए शख्स की थर्मल स्क्रीनिंग करते हैं, इसका पूरा रिकॉर्ड रखा जाता है. उसके बाद लोगों को खाना दिया जाता है.

बता दें कि दिल्ली के एक रेलवे स्टेशन पर एक बार में 900 लोगों के खाने की व्यवस्था है. IRCTC और RPF की टीम के द्वारा दिल्ली के 5 बड़े स्टेशन पुरानी दिल्ली, नई दिल्ली, आनंद विहार, निजामुद्दीन और सफदरजंग पर मजदूरों को खाना दिया जाता है. इन सभी स्टेशनों पर हर दिन दोपहर 12 से 1 और शाम 7:30 से 8:30 बजे तक खाना मिलता है.

ये भी पढ़ें- कोरोना से निपटने के लिए मोदी सरकार ने बनाया मेगा प्लान, राज्यों को जारी किया इमर्जेंसी फंड

निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन के RPF इंस्पेक्टर का कहना है कि हमारी कोशश है जो लोग लॉकडाउन में फंसे हैं वो भूखे ना रहें. इन लोगों में ज्यादातर आस-पास के दिहाड़ी मजदूर और कुछ बेघर लोग हैं.

LIVE TV