close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पूर्व CJI आर एम लोढ़ा से धोखाधड़ी मामले में एक शख्स गिरफ्तार

पुलिस ने कहा कि आरोपी दिनेश माली को सात जून को उदयपुर से गिरफ्तार किया गया. पुलिस ने कहा कि उसका सहयोगी मुकेश फरार है और उसे भी गिरफ्तार करने के प्रयास चल रहे हैं. 

पूर्व CJI आर एम लोढ़ा से धोखाधड़ी मामले में एक शख्स गिरफ्तार
भारत के पूर्व सीजेआई आर एम लोढ़ा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली : दिल्ली पुलिस ने पूर्व चीफ जस्टिस को एक लाख का चूना लगाने वाले को किया गिरफ्तार किया है. आरोपी का नाम दिनेध माली बताया जा रहा है, हालांकि दिल्ली पुलिस की पकड़ से अभी एक अन्य आरोपी मुकेश बाहर है. 

उदयपुर से हुई गिरफ्तारी
पुलिस ने कहा कि आरोपी दिनेश माली को सात जून को उदयपुर से गिरफ्तार किया गया. उसने जिस एटीएम कार्ड से धोखाधड़ी वाले पैसे निकाले थे, उसे भी बरामद कर लिया गया है. पुलिस ने कहा कि उसका सहयोगी मुकेश फरार है और उसे भी गिरफ्तार करने के प्रयास चल रहे हैं.

30 मई को सामने आया था मामला
यह घटना 30 मई को उस समय प्रकाश में आई जब दक्षिण दिल्ली के पंचशील पार्क निवासी पूर्व सीजेआई लोढ़ा को उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश बी पी सिंह से ईमेल प्राप्त हुआ जिसमें कहा गया कि कुछ अज्ञात लोगों ने 18 और 19 अप्रैल की दरमियानी रात को उनकी आईडी हैक कर ली.

अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (दक्षिण) परविंदर सिंह ने कहा कि लोढ़ा की शिकायत पर एक मामला दर्ज किया गया जिसमें उन्होंने आरोप लगाया कि उन्होंने हैक ईमेल आईडी से संदेश मिलने के बाद अपने खाते से आरटीजीएस से एक लाख रुपये भेजे.

स्टेट बैंक के जिस खाते में धन भेजा गया उस खाताधारक की जानकारी के सत्यापन के लिए उदयपुर एक पुलिस टीम भेजी गई. जिस एटीएम मशीन से पैसे निकाले गये उसके सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले गये. अधिकारी ने कहा कि कथित फर्जी ईमेल आईडी बनाने वाले व्यक्ति की जानकारी मांगने के लिए जीमेल को आग्रह भेजा गया.

पुलिस ने कहा कि दिनेश माली ‘वॉटर प्यूरीफायर’ बेचने और मरम्मत का काम करता है. पूछताछ के दौरान, माली ने खुलासा किया कि मुकेश उसके खाते में हर लेनदेन के लिए एक हजार रुपये कमीशन के रूप में देता था. सिंह ने कहा कि माली के बैंक खाते की जांच करने पर पता चला है कि पूरे देश से साढे चार लाख रुपये का लेनदेन किया गया है. अधिकारी ने कहा कि धोखाधड़ी वाला धन अब भी वसूल नहीं हो पाया है.