#DelhiFire LIVE UPDATE: पुलिस ने फैक्ट्री मालिक रिहान को हिरासत में लिया, केस दर्ज

रिहान पर गैर-इरादन हत्या का केस दर्ज किया गया है.  

#DelhiFire LIVE UPDATE: पुलिस ने फैक्ट्री मालिक रिहान को हिरासत में लिया, केस दर्ज
फायर फाइटर्स ने कैजुअल्टी को कंधे पर लाद कर सकरी गली से बाहर निकाला. ना स्ट्रेचर था और ना एंबुलेंस ऑटो में डालकर भेजा अस्पताल (फोटो- ट्विटर)

नई दिल्ली: पुरानी दिल्ली के रानी झांसी रोड (Rani Jhansi Road) स्थित अनाज मंडी (Anaj Mandi) इलाके में रविवार को भीषण आग (Delhi Fire) से 43 लोगों के घर में मातम छाया है. यह इलाका पुरानी दिल्ली में फिल्मिस्तान सिनेमा के पास है. इस आग में अभी तक 56 लोगों को निकाला गया. आग आज सुबह करीब 05.30 बजे तीन घरों में लगी, यहां गत्ते और कागज की अवैध फैक्ट्री चल रही थी. जिस वजह से आग फैली और उसने तीन घरों की दो से तीन मंजिलों को अपनी चपेट में ले लिया. दिल्ली क्राइम ब्रांच की टीम मौके पर पहुंच गई है. उधर, दिल्ली पुलिस ने फैक्ट्री मालिक रिहान को हिरासत में ले लिया है. रिहान पर गैर-इरादन हत्या का केस दर्ज किया गया है. 

पुरानी दिल्ली का यह इलाका सकरी गलियों वाला है. मौके पर फायर ब्रिगेड की 30 गाड़ियां आग बुझाने में जुटी हैं. हालांकि यहां से कुछ कदम की दूरी पर ही मॉडल बस्ती फायर स्टेशन है लेकिन सकरी गलियों की वजह से फायर की गाड़ियां लगी के अंदर नहीं पहुंच सकी. जिसके चलते बचाव कार्य में देरी हुई और उसी वजह से कैजुअल्टी की संख्या बढ़ गई. बिल्डिंग के मालिक के खिलाफ आईपीसी की धारा 304 के तहत केस दर्ज किया गया है. बिल्डिंग के मालिक रेहान को आरोपी बनाया गया है. केस क्राइम ब्रांच को ट्रांसफर कर दिया गया है. क्राइम ब्रांच और एफएसएल की टीम मौके पर साक्ष्य जुटाने में लगी है. रेहान की गिरप्तारी के लिए पुलिस की दबिश जारी है.

शवों की शिनाख्त के लिए MAMC पहुंचे परिजन 
अब परिवार के लोग अपने लोगों को ढूंढते हुए मौलाना आज़ाद मेडिकल कॉलेज (MAMC) की मॉर्चरी पहुंच गए हैं.जहां पुलिस लोगों को दिखाकर डेडबॉडी की शिनाख्त कर रही है.  अनाज मंडी इलाका सदर बाजार थाना क्षेत्र के अंतर्रगत आता है. पुराने जमाने में यहां अनाजमंडी होती थी, लेकिन अब यहां अनाज की दुकान नहीं है. बताया जा रहा है कि जिस बिल्डिंग में आग लगी है उसका नंबर 8272 है . इस बिल्डिंग का मकान मालिक मोहम्मद रेहान है और यहा चलने वाली फैक्ट्री को रेहान और उसके दोनों भाई चलाते थे. ये पांच मंजिला बिल्डिंग है और इसके दूसरे,तीसरे और चौथे फ्लोर पर काम होता था. बिल्डिंग की तीसरी और चौथी मंजिल पर ही आग लगी थी. 

घटनास्थल पर पहुंचे सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने कहा, 'इस हादसे के मैजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं. मृतकों को 10-10 लाख और घायलों को 1-1 लाख रुपये मुआवजे दिया जाएगा. दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.'

मौके पर पहुंचे बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा, 'ये दर्दनाक खबर है. अभी कौन जिम्मेदार है कहा नहीं जा सकता है. जांच रिपोर्ट का इंतजार करना चाहिए. हम सब इस दुखद घड़ी में वेदना प्रकट करते हैं. हम पीड़ित परिवार के साथ खड़े हैं. हम पार्टी की तरफ से पीड़ित परिवारों के लिए 5-5 लाख मदद की घोषण करते हैं.'

पीएम नरेंद्र मोदी ने घटना पर दुख जताया

आग पर काबू पाने का काम अभी भी जारी है. बचाए गए लोगों को बाड़ा हिंदूराव, राम मनोहर लोहिया, एलएनजेपी अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. जहां उनका इलाज जारी है. सबसे पहले एलएनजेपी अस्पताल ने 10 लोगों की मौत की पुष्टी की थी.

यह भी पढ़ें- दिल्ली: अनाज मंडी आग में कई लोगों की मौत, PM मोदी, राष्ट्रपति ने जताया हादसे पर दुख

मौके पर पहुंचे बीजेपी नेता विजय गोयल ने कहा 'दिल्ली में ऐसे हादसे होना आम बात हो गई है. हादसों के बाद जांच बैठती है, लेकिन सरकार कोई कार्रवाई नहीं होती है. ये इलाका दिल्ली सरकार के मंत्री इमरान हुसैन का है. यहां बहुत से अवैध निर्माण है, यहां फैक्ट्रियां चल रही है. इन्हें वैकल्पिक प्लॉट दिए जाने थे लेकिन कुछ नहीं हुआ.'

कांग्रेस नेता अलका लांबा ने कहा, 'मैंने फायर डिपार्टमेंट से बात की, उन्होंने बताया कि एम्बुलेंस नहीं है, लोगों को ऑटो में ले जाय गया. अरविन्द केजरीवाल के घर के बाहर एम्बुलेंस खड़ी थी...लेकिन उसको नहीं भेजा क्योंकि वो वीआईपी लोगों के लिए हैं. मुख्यमंत्री के अंदर संवेदनशीलता नहीं बची है. कोई सबक नहीं ले रहा है.

(इनपुट नीरज गौड़, रूफी जैदी, वरुण भसीन और पीयूषा शर्मा से भी)