घर खरीदने वालों के लिए बड़ी खुशखबरी, NCR में हो रही चंडीगढ़ से 4 गुना बड़ा शहर बसाने की प्‍लानिंग

गुड़गांव (गुरुग्राम) के जैसा एक और शहर हरियाणा में बसेगा. यह चंडीगढ़ से कही बड़ा होगा लेकिन गुरुग्राम से छोटा होगा.

घर खरीदने वालों के लिए बड़ी खुशखबरी, NCR में हो रही चंडीगढ़ से 4 गुना बड़ा शहर बसाने की प्‍लानिंग
इस शहर को दक्षिण नई दिल्‍ली के पास बसाया जाएगा और इसका क्षेत्रफल 50 हजार हेक्‍टेयर होगा. (प्रतीकात्‍मक फोटो)
Play

नई दिल्‍ली: गुड़गांव (गुरुग्राम) के जैसा एक और शहर हरियाणा में बसेगा. यह चंडीगढ़ से लगभग 4 गुना बड़ा होगा लेकिन गुरुग्राम से छोटा होगा. हरियाणा सरकार ने यह योजना बनाई है. यह शहर भी राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र का हिस्‍सा होगा. इसे पब्लिक-प्राइवेट साझेदारी (PPP) में विकसित किया जाएगा. हरियाणा स्‍टेट इंडिस्‍ट्रियल एंड इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन (HSIIDC) को इस शहर का मास्‍टर प्‍लान तैयार करने के लिए कहा गया है, जिसे पूरा करने में 6 महीने लगेंगे. एचएसआईआईडीसी के प्रबंध निदेशक नरहरी बांगर ने बताया कि मास्‍टर प्‍लान तैयार करने के लिए एक कंसल्‍टेंट नियु‍क्‍त होगा. यह एक वर्ल्‍ड क्‍लास सिटी होगी जहां शिक्षा और स्‍वास्‍थ्‍य समेत सभी मूलभूत सुविधाएं होंगी. हम इसके लिए जमीन का अधिग्रहण नहीं करेंगे. इसे पीपीपी मॉडल के तहत विकसित किया जाएगा.

50 हजार हेक्‍टेयर में फैला होगा शहर
यह शहर चंडीगढ़ से बड़ा लेकिन गुरुग्राम से छोटा होगा. चंडीगढ़ 11,400 हेक्‍टेयर में फैला है जबकि गुरुग्राम 73,200 हेक्‍टेयर में बसा है. इस शहर को दक्षिण नई दिल्‍ली में बसाया जाएगा और इसका क्षेत्रफल 50 हजार हेक्‍टेयर होगा. इं‍डियन एक्‍सप्रेेेस की खबर के अनुसार इसकी बाउंड्री गुरुग्राम-मानेसर के उत्‍तर से लेकर अरावलि हिल्‍स के उत्‍तर पूर्व तक फैली होंगी. इंडियन एक्‍सप्रेस के सूत्रों ने बताया कि एनएच-8 शहर की पश्चिमी सीमा से सटा होगा जबकि पूर्व और दक्षिण में खेत होंगे.

 

कुंडली-मानेसर-पलवल एक्‍सप्रेस वे जुड़ा होगा
अधिकारियों ने बताया कि यह प्रस्‍तावित शहर राष्‍ट्रीय और राज्‍य राजमार्गों से जुड़ा होगा. मसलन कुंडली-मानेसर-पलवल एक्‍सप्रेस वे और अन्‍य प्रमुख जिला मार्गों से. कॉरपोरेशन के एमडी को कंसल्‍टेंट नियुक्‍त करने की जिम्‍मेदारी दी गई है. सूत्रों ने बताया कि एचएसआईआईडीसी ने कंसल्‍टेंट तय करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. इसके लिए बोलियां 3 जुलाई तक आमंत्रित की गई हैं. कंसल्‍टेंट मास्‍टर प्‍लान तैयार करने के साथ विभिन्‍न प्रकार के नियमन भी तैयार करेंगे. मसलन विकास नियंत्रण नियमन, इमारतों की ऊंचाई के नियमन, लैंड यूज इत्‍यादि. साथ ही रोड नेटवर्क प्‍लान, मेट्रो रेल प्‍लान, रेल और रोड लिंकेज और पब्लिक ट्रांसपोर्ट के बारे में भी सुझाव देंगे.