2000 हज़ार ज़िंदा कारतूसों के साथ हथियारों का कुख्यात तस्कर गिरफ्तार

दिल्‍ली क्राइम ब्रांच को बड़ी कामयाबी मिली. 2000 जिंदा कारतूसों की खेप को पुलिस ने पकड़ लिया. पुलिस के अनुसार, सील किये हुए दो हज़ार ज़िंदा कारतूस है अगर अपनी मंज़िल तक पहुंच जाते तो राजधानी दिल्ली में किसी बड़ी वारदात को अंजाम दिया जा सकता था.

2000 हज़ार ज़िंदा कारतूसों के साथ हथियारों का कुख्यात तस्कर गिरफ्तार

नई दिल्‍ली: दिल्‍ली क्राइम ब्रांच को बड़ी कामयाबी मिली. 2000 जिंदा कारतूसों की खेप को पुलिस ने पकड़ लिया. पुलिस के अनुसार, सील किये हुए दो हज़ार ज़िंदा कारतूस है अगर अपनी मंज़िल तक पहुंच जाते तो राजधानी दिल्ली में किसी बड़ी वारदात को अंजाम दिया जा सकता था.

कारतूसों की इस बड़ी खेप के दिल्ली आने की गुप्त सूचना पुलिस की क्राइम ब्रांच को मिली थी. लिहाज़ा क्राइम ब्रांच लगातार कारतूसों की सप्लाई की हर मूवमेंट पर नज़र बनाये हुए थी. क्राइम ब्रांच को सफलता मिली और उसने कारतूसों की सप्लाई के कुख्यात तस्कर अमरलाल को गिरफ्तार किया, जिसकी निशानदेही पर दो हज़ार ज़िंदा कारतूस पुलिस को मिले. 32 और 315 बोर के इन कारतूसों की सप्लाई दिल्ली समेत एनसीआर के बदमाशों को होनी थी.

क्राइम ब्रांच के मुताबिक अमरलाल पंजाब के अबोहर का रहना वाला है और ये कार से कारतूस लेकर दिल्ली आता था. दिल्ली एनसीआर में इन्‍हें बेच देता था. पुलिस के मुताबिक अमरलाल के पास से 32 के 1000 कारतूस और 315 के 1000 कारतूस बरामद हुए है.

अमरलाल 2002 से कारतूस की सप्लाई का काम कर रहा है. अमरलाल पहले भी कई बार गिरफ्तार हो चुका है. लेकिन इसने कारतूस की सप्लाई करने नहीं छोड़ा. पुलिस के मुताबिक अमरलाल 150 रुपए में कारतूस खरीदता था और 250 से 300 रुपए में बेच देता था. पुलिस अब इस बात की जांच कर रही है कि आखिर इन कारतूसों के खरीदार कौन है, क्योंकि लोकसभा चुनाव नजदीक है पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि कही चुनावो में तो इन कारतूसों के जरिये दहशत नहीं फैलाई जानी थी.

क्राइम ब्रांच के डीसीपी राम नाईक ने ज़ी न्यूज़ को बताया कि 'क्राइम ब्रांच लगातार अवैध हथियार और कारतूसों की सप्लाई दिल्ली में होने को लेकर एक मुहिम चलाई हुई थी उसी के तहत पंजाब के रहने वाले अमरलाल के द्वारा दो हज़ार कारतूस दिल्ली समेत एनसीआर में सप्लाई की सूचना थी. लिहाजा हमारी टीम ने उसको गिरफ्तार किया और उसके पास से 2000 जिंदा कारतूस बरामद किए. ये कारतूस नकली नहीं बनाये जा सकते इन कारतूसों को अमरलाल कहाँ से लाया इसकी जांच की जा रही है.'