close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

एनजीटी ने दिया आदेश, खुलेगा गाजियाबाद का हज हाउस

प्रदूषण बोर्ड की एनओसी मिलते ही हज हाउस में काम शुरू हो जाएंगे.

एनजीटी ने दिया आदेश, खुलेगा गाजियाबाद का हज हाउस
फाइल फोटो.

नई दिल्ली: 2016 से सील गाजियाबाद हज हाउस को NGT ने खोलने के आदेश दिए हैं. NGT ने केंद्रीय और उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को तीन हफ़्ते में हज हाउस में लगे सीवेज ट्रीटमेंट प्लॉंट का मुआयना कर रिपोर्ट दाख़िल करने को कहा है . प्रदूषण बोर्ड की एनओसी मिलते ही हज हाउस में काम शुरू हो जाएंगे. NGT के ही एक आदेश पर 2016 में इस हज हाउस को सील कर दिया गए था. लगभग 52 करोड़ की लागत से बना ये हज हाउस मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव का ड्रीम प्रोजेक्ट था . इस हज हाउस में करीब दो हज़ार हज यात्री एक साथ ठहर सकते हैं. 

2016 से ही ग़ाज़ियाबाद का ये हज हाउस बंद पड़ा है. 
सितंबर 2016 में उस समय के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इसका फ़ीता भी काटा, लेकिन NGT ने जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए 2016 में ही सीवेज निष्तारण की कोई व्यवस्था न होने और हिंडन फ़्लड प्लेन पर बने होने के कारण सील कर दिया था . इस हज हाउस का 2005 में मुलायम सिंह ने शिलान्यास किया था .  5 सितंबर 2015 में अखिलेश यादव ने उद्धघाटन किया, वही सितंबर 2016 में NGT ने दिए सील करने के आदेश दे दिये . याचिकाकर्ता ने कोर्ट में केंद्र सरकार, राज्य सरकार, गाज़ियाबाद नगर निगम, गाज़ियाबाद डीएम, सिंचाई विभाग, प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड और यूपी हज हाउस कमेटी को पार्टी बनाया था .

याचिकाकर्ता ने मांग की थी, कि हिंडन नदी के किनारे बने इस हाउस को तोड़ा जाए, क्योंकि ये पर्यावरण एंव प्रदूषण के मानकों के खिलाफ जाकर बना है, याचिकाकर्ता की इस बात को फरवरी 2018 में कोर्ट ने खारिज कर दिया, हालांकि सीवेज ट्रीटमेंट की व्यवस्था न होने कारण इसके सील को जारी रखा गया और कोर्ट ने हज कमेटी को सीवेज ट्रीटमेंट प्लॉट लगाने के आदेश भी दिया .

सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगने के बाद फिर से हज कमेटी कोर्ट पहुंची, जिसके बाद हज कमेटी NGT ने हज हाउस खोलने का आदेश दे दिया . NGT की तरफ से कहा गया कि तीन हफ़्ते में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड देगा STP पर रिपोर्ट देगा. यूपी हज कमेटी के अधिवक्ता रोहित पांडे इसे बड़ी राहत मानते है उनका कहना है कि हमने सीवर ट्रीटमेंट प्लांट लगाया है.

केंद्रीय प्रदूषण बोर्ड और राज्य प्रदूषण बोर्ड तीन हफ़्ते में जांच करेगा सब ठीक रहा तो हमें NOC मिल जाएगी. एनजीटी के आदेश आने के बाद हज कमेटी ऑफ इंडिया की तरफ से भी बड़ा एलान कर दिया गया है . हज कमेटी ऑफ इंडिया की तरफ कहा गया है कि इस हज हाउस का प्रयोग एक महीने के लिए हज के काम में होगा बाकी के 11 महीने स्किल इंडिया और बेटियों की सिलाई-बुनाई जैसे कोर्स सिखाने के लिए किया जाएगा, इसमें सभी धर्मो के लोग शामिल होंगे. इस हज हॉउस के खुलने से पश्चिमी उत्तरप्रदेश के हज यात्रियों को बड़ी राहत मिलेगी और दिल्ली हज कमेटी का बोझ भी कम होगा.