निर्भया केस: अब दोषी मुकेश की पटियाला हाउस कोर्ट से मांग, 'डेथ वारंट रोका जाए', सुनवाई आज

हाईकोर्ट ने पूरे मामले की सुनवाई करते हुए सवाल उठाया और कहा था कि आखिर दोषियों की अपील खारिज होने के बाद कानूनी उपायों का उपयोग क्यों नहीं किया? 

निर्भया केस: अब दोषी मुकेश की पटियाला हाउस कोर्ट से मांग, 'डेथ वारंट रोका जाए', सुनवाई आज
फाइल फोटो...

नई दिल्‍ली : निर्भया केस (Nirbhaya Case) एक दोषी मुकेश की अर्जी पर पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) आज (गुरुवार को) दोपहर 2 बजे सुनवाई करेगा. दरअसल, मुकेश ने डेथ वारंट पर रोक की मांग की है और इसके पीछे उसने दया याचिका के लंबित होने का हवाला दिया है. बुधवार को कोर्ट ने दिल्ली सरकार (Delhi Govt) और निर्भया के माता-पिता को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था और इससे पहले बुधवार को ही दिल्ली हाईकोर्ट ने निर्भया के दोषी मुकेश को राहत देने से इनकार कर दिया था. साथ ही डेथ वारंट पर रोक लगाने से इनकार किया था. कोर्ट ने कहा था कि याचिकाकर्ता सेशन कोर्ट जा सकता है. इसके बाद हाईकोर्ट ने याचिका का निपटारा कर दिया था.

हालांकि हाईकोर्ट ने पूरे मामले की सुनवाई करते हुए सवाल उठाया और कहा था कि आखिर दोषियों की अपील खारिज होने के बाद कानूनी उपायों का उपयोग क्यों नहीं किया? आखिर ढाई साल बीतने के बाद आपको कानूनी उपचार की याद क्यों आई? दिल्ली हाईकोर्ट ने मुकेश के वकील से कहा था कि आप दूसरे केस का हवाला देकर अपने केस को प्रोजेक्ट न करें. दिल्ली सरकार की तरफ से पेश वकील ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा शत्रुघ्न चौहन के फैसले का उदाहरण देते हुए कहा था कि 22 जनवरी को होने वाली फांसी तय समय पर नहीं हो सकती है, क्‍योंकि जब भी माननीय राष्ट्रपति महोदय दोषी मुकेश की दया याचिका खारिज करते हैं, उसके बाद दोषी को 14 दिन का समय दिया जाता है.

हाईकोर्ट ने मामले की सुनवाई के दौरान दोषियों द्वारा कोर्ट में याचिका दायर करने पर सवाल खड़ा किया. कोर्ट ने कहा था कि ट्रायल कोर्ट ने जब दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी किया था उस समय दोषियों कि तरफ से कोई भी याचिका किसी भी कोर्ट मै लंबित नहीं थी. कोर्ट ने सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद कहा था कि हम इस मामले में कोई आदेश नहीं जारी करेंगे. हालांकि कोर्ट ने दोषी मुकेश के वकील से कहा कि वह निचली अदालत में अपील कर डेथ वारंट पर रोक लगाने की मांग कर सकते है.