Nirbhaya Case के दोषियों से पूछी गई उनकी 'आखिरी ख्वाहिश'

चारों दोषियों को तिहाड़ की जेल नंबर-3 में अलग-अलग सेल में रखा गया है. हर दोषी की सेल के बाहर दो सिक्यॉरिटी गार्ड तैनात रहते हैं.

Nirbhaya Case के दोषियों से पूछी गई उनकी 'आखिरी ख्वाहिश'

नई दिल्ली: देश को दहला देने वाले दिल्ली (Delhi) के निर्भया केस (Nirbhaya Rape case)  के चारों दोषियों की फांसी का दिन तय हो गया है. खबरों की मानें तो इन चारों को फांसी देने के लिए जल्लाद को भी दिल्ली की तिहाड़ जेल बुलाया गया है. अब खबर यह आ रही है कि चारों दोषियों से तिहाड़ जेल प्रशासन ने नोटिस जारी कर पूछा अंतिम इच्छा क्या है? बता दें कि 1 फरवरी को तय उनकी फांसी से पहले वह अपनी अंतिम मुलाकात किससे करना चाहते हैं? उनके नाम कोई प्रॉपर्टी है तो क्या वह उसे किसी के नाम ट्रांसफर करना चाहते हैं, कोई धार्मिक किताब पढ़ना चाहते हैं?

जेल सूत्रों के मुताबिक निर्भया के चारों दोषियों को तिहाड़ की जेल नंबर-3 में अलग-अलग सेल में रखा गया है. हर दोषी की सेल के बाहर दो सिक्यॉरिटी गार्ड तैनात रहते हैं. हर दो घंटे में इन गार्डों को आराम दिया जाता है. शिफ्ट बदलने पर दूसरे गार्ड तैनात किए जाते हैं. हर एक कैदी के लिए 24 घंटे के लिए आठ-आठ सिक्यॉरिटी गार्ड लगाए गए हैं. यानी चार कैदियों के लिए कुल 32 सिक्यॉरिटी गार्ड.

फांसी पर लटकाने के लिए तिहाड़ पहुंचेगा पवन जल्लाद
चारों दोषियों को फांसी पर लटकाने के लिए 30 जनवरी को तिहाड़ जेल पहुंचेगा पवन जल्लाद. पवन जल्लाद तिहाड़ जेल में बने फ्लैट में रुकेगा. तिहाड़ जेल मुख्यालय से चंद कदम दूर स्थित सेमी ओपन जेल के एक फ्लैट से तीन कैदियों को दूसरे कमरे में स्थानांतरित किया गया है. सूत्रों की मानें तो इस कमरे को जल्लाद पवन के लिए खाली कराया गया है. इस कमरे में उसके ठहरने का इंतजाम किया जाएगा. पवन के लिए एक फोल्डिंग बैड, रजाई और गद्दे की व्यवस्था की जा रही है. उसका भोजन कैंटीन में तैयार किया जाएगा.

य़ह भी पढ़ें- Nirbhaya Case: एक तय समय में हो जाए फांसी की सजा, केंद्र सरकार पहुंची SC

पवन जल्लाद ने कहा- निर्भया के दोषियों को लटकाने की मेरी पूरी तैयारी
दिंसबर महीने में मीडिया से बात करते हुए पवन ने कहा था.'उन्हें फांसी होनी चाहिए. मेरी पूरी तैयारी है. अधिकारी मुझे जब तिहाड़ जाने के लिए कहेंगे तो मैं चला जाऊंगा. पवन ने बताया कि फांसी से पहले आरोपियों का ट्रायल होगा. उनका वजन चेक किया जाएगा और भी कई प्रक्रियाएं पूरी करनी होंगी.'

आपको बता दें कि सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने यूपी जेल विभाग के अधिकारियों को चिट्ठी लिखकर पवन को दिल्ली भेजने का आग्रह किया है. आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में सिर्फ दो जल्लाद हैं. जिनमें से लखनऊ के इलियास जल्लाद की तबियत खराब चल रही है ऐसे में बचा सिर्फ पवन. इसलिए पवन को तिहाड़ जेल बुलाया गया है. यूपी कारागार के महानिदेशक आनंद कुमार ने कहा कि तिहाड़ का पत्र मिला है. हमने तिहाड़ जेल प्रशासन को उसका जवाब दे दिया है. जिस दिन जरूरत होगी हम उसे भेज देंगे. 

यह भी पढ़ें: फांसी की खबरों से परेशान निर्भया कांड के दोषी

आपको बता दें कि बुधवार (11 दिसंबर) को मध्य प्रदेश के खंडवा जिले के एक रिटायर्ड फौजी ने भी निर्भया कांड के दोषियों को फांसी देने के लिए जल्लाद बनने की पेशकश की थी. इसके लिए रिटायर्ड फौजी ने राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को चिट्ठी भी लिखी है. 

जल्लाद बनने को तैयार रिटायर्ड फौजी प्रदीप सिंह ठाकुर ने कहा कि वो इस काम के बदले अपनी ओर से 5 लाख रुपए भी सरकारी खजाने में जमा करेंगे. दरअसल, खबरों के जरिए उन्हें पता चला कि निर्भया कांड के दोषियों को सजा देने के लिए जल्लाद नहीं है, तो उन्होंने खुद ही जल्लाद बनकर ऐसे अपराधियों से समाज को मुक्त करने की पेशकश की. उन्होंने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और गृह मंत्री को इस बाबत चिट्ठी लिखी है. उनका कहना है कि वो खुद जल्लाद बनकर ऐसे अपराधियों को दुनिया से मुक्त करना चाहते हैं.

यह वीडियो भी देखें -