close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नोएडा: रुपए लेकर जारी कर रहे थे फायर NoC, फायर सेफ्टी ऑफिसर समेत दो गिरफ्तार

इस केस में फायर सेफ्टी डिपार्टमेंट के कई बड़े लोगों के शामिल होने की जानकारी मिली है.

नोएडा: रुपए लेकर जारी कर रहे थे फायर NoC, फायर सेफ्टी ऑफिसर समेत दो गिरफ्तार
अब तक इस मामले में तीन लोग गिरफ्तार हो चुके हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली: दिल्ली से सटे नोएडा में रुपये लेकर फायर एनओसी (अनापत्ति प्रमाण पत्र) जारी कराने में फायर सेफ्टी ऑफिसर (FSO) कुलदीप कुमार के बाद फायरमैन अजीत सिंह को भी गिरफ्तार किया गया है. आरोपी सुरक्षा मानक पूरे किए बिना 450 से ज्यादा एनओसी (NOC) सर्टिफिकेट जारी करवा चुके हैं. शुरुआती जांच में ही फायर सेफ्टी डिपार्टमेंट के कई बड़े लोगों के शामिल होने की जानकारी मिली है.

पुलिस के मुताबिक, एफएसओ तो केवल जांच रिपोर्ट बनाकर भेजता था. एनओसी जारी करने का अधिकार फायर के अधिकारियों पर ही होता था. एनओसी देने वाले अधिकारी ने एफएसओ की जांच रिपोर्ट को कभी चेक करने की कोशिश तक नहीं की.

जांच के मुताबिक, वेंडर एनओसी दिलाने के लिए बिल्डरों से ठेका लेते थे. बिल्डर या फिर मालिक के नाम दमकल विभाग की वेबसाइट एनओसी के लिए आवेदन किया जाता है. सभी जानकारी बिल्डर या घर के मालिक की डाली जाती थी, लेकिन ई-मेल और मोबाइल नंबर वेंडर अपना डाल देते थे. ऐसे में एनओसी को लेकर होने वाली सभी प्रक्रिया का अपडेट वेंडर की ईमेल और मोबाइल पर ही आता था. उसी अपडेट के आधार पर वेंडर आवेदकों से सौदेबाजी करते थे. ऑनलाइन आवेदन जब चीफ फायर सेफ्टी ऑफिसर तक पहुंचता तो वे जांच के लिए एफएसओ को भेज देते थे. एफएसओ भवन का निरीक्षण करने के बाद रिपोर्ट को वेबसाइट पर ही अपडेट करता था. एफएसओ की रिपोर्ट के बाद ही सीएफओ फैसला लेते थे कि एनओसी देनी है या नहीं.

नोएडा सेक्टर-2 के फायर स्टेशन के एफएसओ कुलदीप कुमार और वेंडर अरविंद गुप्ता की गिरफ्तारी के बाद अफसरों के बीच हड़कंप मचा हुआ है. अब सवाल उठ रहा है कि एफएसओ को एनओसी देने का अधिकार ही नहीं था तो  कैसे दिया गया? सोशल मीडिया में ऑडियो आने के बाद ये मामला सामने आया है.

अब तक इस मामले में तीन लोग गिरफ्तार हो चुके हैं. जैसे-जैसे पुलिस की जांच आगे बढ़ेगी, वैसे-वैसे भ्रष्टाचार के इस खेल में और भी बड़े चेहरे बेनकाब होंगे.