महिला एसआई का साहसिक कदम, थानों में अलग से बनाए जा रहे है महिला टॉयलेट

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने इंस्पेक्शन के दौरान एक महिला एसआई को गैरहाजिर पाकर उसे सस्पेंड कर दिया था.

महिला एसआई का साहसिक कदम, थानों में अलग से बनाए जा रहे है महिला टॉयलेट
सुमित कुमार, पुलिस अधीक्षक (पानीपत)

राकेश भयाना, नई दिल्ली: कोई भी साहसिक कार्य करने के लिए सोच-समझकर कदम बढ़ाना जरूरी होता है. पानीपत की महिला पुलिसकर्मी ने एक साहसिक कार्य किया है. दरअसल, हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने इंस्पेक्शन के दौरान एक महिला एसआई को गैरहाजिर पाकर उसे सस्पेंड कर दिया था. इसके बाद उस महिला पुलिसकर्मी ने अपने गैरहाजिरी का कारण बताते हुए विज से कहा कि थाने में महिला टॉयलेट नहीं है इसलिए उसे गैरहाजिर होना पड़ा. 

उसके इस साहसिक कदम से दूसरी महिला पुलिसकर्मियों उसकी प्रशंसा कर रही है. बात दें कि 16 नवंबर को हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने पानीपत के सिटी थाने में इंस्पेक्शन किया था. उन्होंने इंस्पेक्शन के दौरान गैरहाजिर मिली एसआई निर्मला को सस्पेंड किया था.

एसआई निर्मला ने सस्पेंशन के बाद साहसिक कदम उठाते हुए गृह मंत्री अनिल विज को एक पत्र के माध्यम से अपनी गैर हाजिर होने का कारण बताया. निर्मला ने बताया कि थाने में कोई महिला टॉयलेट नहीं था और वह अपने स्टाफ क्वार्टर में वॉशरूम गई हुई थी. कारण जानने के बाद उसे फिर से नौकरी पर बहाल कर दिया गया. 

इसके साथ ही गृह मंत्री ने सभी थानों में महिला टॉयलेट बनाने के आदेश जारी किए हैं. आदेश का पालन करते हुए पानीपत के पुलिस अधीक्षक सुमित कुमार ने पानीपत जिले के सभी थानों में महिला टॉयलेट बनाने के आदेश जारी किए हैं. पुलिस अधीक्षक ने कहा कि किसी महिला पुलिसकर्मी को कोई समस्या है तो वह अपने सीनियर को बताएं. उसे दूर करने की कोशिश की जाएगी. 

निर्मला के इस साहसिक कदम से दूसरे जिले की महिला पुलिसकर्मियों को भी प्रोत्साहन मिलेगा और थानों में जहां महिला टॉयलेट नहीं हैं वहां महिला टॉयलेट बनने शुरू होंगे.