जामिया हिंसा को लेकर PFI पर शक, 5 सदस्यों को नोटिस जारी करेगी क्राइम ब्रांच

नागरिकता कानून के खिलाफ हो रहे प्रदर्शनों के लिए फंडिंग करने के मामले में पीएफआई पहले से ही प्रवर्तन निदेशालय की जांच के घेरे में है.

जामिया हिंसा को लेकर PFI पर शक, 5 सदस्यों को नोटिस जारी करेगी क्राइम ब्रांच
फाइल फोटो

नई दिल्ली: नागरिकता कानून के विरोध में (15 दिसंबर) को दिल्ली की जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में हुई हिंसा के मामले में पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के सदस्यों को दिल्ली पुलिस नोटिस जारी करेगी. खबर है कि दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की एसआईटी जामिया हिंसा मामले में पीएफआई के 5 सदस्यों को नोटिस जारी करने जा रही है. ऐसा बताया जा रहा है कि क्राइम ब्रांच की एसआईटी को जामिया हिंसा में इनकी भूमिका का पता चला है. इस मामले में ईडी के अधिकारियों के सम्पर्क में है क्राइम ब्रांच की एसआईटी.

बता दें कि नागरिकता कानून के खिलाफ हो रहे प्रदर्शनों के लिए फंडिंग करने के मामले में पीएफआई पहले से ही प्रवर्तन निदेशालय की जांच के घेरे में है.

दिल्ली पुलिस ने जामिया हिंसा के 70 आरोपियों की जारी की तस्वीरें
29 जनवरी को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने जामिया हिंसा के 70 आरोपियों की तस्वीरें जारी की हैं. जानकारी देने वाले को इनाम मिलेगा. 15 दिसंबर को दिल्ली में नागरिकता कानून के खिलाफ आगजनी और तोड़फोड़ हुई थी. बसें जलाई गई थी. सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया था. 
 
जामिया हिंसा (Jamia violence) मामले में दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की क्राइम ब्रांच (Crime Branch) ने कांगेस के पूर्व विधायक आसिफ मोहम्मद खान ( Asif Muhammad Khan), लोकल नेता आशु खान और जामिया के छात्र चंदन कुमार से भी पूछताछ कर चुकी है.  

यह भी पढ़ें- गृह मंत्रालय को मिली खुफिया जानकारी, CAA और NRC के खिलाफ PFI ने बनाया यह प्लान

आशु खान जामिया इलाके का स्थानिय नेता है और वहां से पार्षद का चुनाव भी लड़ चुका है, लेकिन हार गया था. आशु खान और मोहम्मद आसिफ पर आरोप है कि दोनों ने 15 दिसंबर को हुई हिंसा में लोगों को भड़काया जिसके चलते आगजनी हुई. हिंसा के बाद जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी को 5 जनवरी तक के लिए बंद कर दिया गया था.

दिल्ली पुलिस ने शुरुआत में 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया था. सभी आरोपी क्रिमिनल बैकग्राउंड के लोग थे. इस पूरे मामले में पुलिस ने न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी और जामिया नगर थाने में दो FIR दर्ज की गई थीं उसमें करीब 15 लोगों के नाम शामिल थे.  पुलिस ने पहली FIR न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी थाने में आगजनी, दंगा फैलाने, सरकारी संपत्ति को नुकसान और सरकारी काम में बाधा पहुंचाने का दर्ज किया. दूसरी FIR जामिया नगर थाने में दंगा फैलाने, पथराव और सरकारी काम में बाधा करने का दर्ज किया था.