close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: नशे के तस्करों को पकड़ने गई पुलिस पर हमला, फायरिंग में एक शख्स की मौत

झड़प के दौरान गोली लगने से बठिंडा पुलिस के कॉन्स्टेबल की हालत गंभीर.

VIDEO: नशे के तस्करों को पकड़ने गई पुलिस पर हमला, फायरिंग में एक शख्स की मौत
दोनों तरफ से हुई फायरिंग में एक शख्स की गोली लगने से मौत हो गई.

सिरसा (विजय कुमार): हरियाणा के सिरसा जिले के देसू जोधा गांव में बुधवार देर रात पंजाब पुलिस और नशा तस्करों के बीच मुठभेड़ हुई. दोनों तरफ से हुई फायरिंग में एक शख्स की गोली लगने से मौत हो गई. वहीं, सात पुलिसकर्मी घायल हो गए जिन्हें निजी अस्पताल में इलाज भर्ती कराया गया है.

मृतक के परिजन तेज सिंह का आरोप है कि बठिंडा पुलिस ने घर में घुसते ही कुलविंदर सिंह समेत परिजनों के साथ मारपीट करना शुरू कर दी थी. उन्होंने आरोप लगाया है कि पुलिस ने उनसे 2 लाख रुपये देकर मामले को रफा-दफा करने की भी बात कही.

मृतक के परिजनों ने बठिंडा पुलिस पर चिट्टे का सेवन करने का संगीन आरोप भी लगाया. उन्होंने कहा कि कुलविंदर सिंह पर बठिंडा पुलिस द्वारा नशा बेचने का आरोप बिलकुल गलत है. उन्होंने कहा कि बठिंडा पुलिस ने अंधाधुंध फायरिंग करनी शुरू कर दी जिसमें उसके भाई जग्गा सिंह की मौत हो गई.

तेज सिंह ने बताया कि उनके घर पर गुरुग्रन्थ साहिब का पाठ चल रहा था और उसी कमरे में बठिंडा पुलिस के कर्मचारी ने अपने आपको गोली मार ली. मृतक के परिजनों ने बठिंडा पुलिस के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

पुलिसकर्मी घायल
वहीं, सिरसा के डीएसपी राजेश कुमार ने बताया कि डबवाली पुलिस को देसूजोधा में पुलिस और ग्रामीणों की झड़प की सूचना मिली तो आला अधिकारियों ने वहां पहुंचकर गांव से निकालकर घायल पुलिस कर्मियों को अस्पताल में भर्ती करवाया. उन्होंने कहा कि गोली लगने से एक पुलिसकर्मी घायल हुआ है जिसका इलाज किया जा रहा है. वहीं, गोली लगने से जख्मी जग्गा सिंह नामक व्यक्ति की मौत हो गई है जिसका पोस्टमार्टम किया गया है.

40- 50 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज
डीएसपी ने कहा कि बठिंडा पुलिस की शिकायत पर कुलविंदर सिंह और 40- 50 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है और ग्रामीणों की शिकायत पर बठिंडा पुलिस के खिलाफ जांच की जा रही है. उन्होंने कहा कि सिरसा के डीसी के आदेश पर एक जांच कमेटी का गठन किया गया है जिसमें कालांवाली के एसडीएम और डबवाली के नायब तहसीलदार को जांच का जिम्मा सौंपा गया है.