close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सिख ड्राइवर को पीटने की घटना पर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अमित शाह से किया आग्रह

गृह मंत्री अमित शाह से पीड़ितों को न्याय सुनिश्चित कराने का आग्रह है." उत्तरी दिल्ली में हुई इस घटना का एक वीडियो वायरल हो गया था.

सिख ड्राइवर को पीटने की घटना पर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अमित शाह से किया आग्रह
फाइल फोटो

चंडीगढ़ः पंजाब के मुख्यमंत्री ने दिल्ली पुलिस द्वारा एक सिख टेंपो चालक को पीटे जाने की घटना की सोमवार को निंदा की और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से इस मामले में दखल देने का आग्रह किया. मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, "दिल्ली पुलिस द्वारा एक मामूली मुद्दे पर सरबजीत सिंह और बलवंत सिंह को बुरी तरह पीटने की घटना शर्मनाक है. गृह मंत्री अमित शाह से पीड़ितों को न्याय सुनिश्चित कराने का आग्रह है." उत्तरी दिल्ली में हुई इस घटना का एक वीडियो वायरल हो गया था.

वीडियो में चालक एक पुलिसकर्मी को तलवार से धमकाते हुए और उसे पकड़ने की कोशिश करने पर पुलिसकर्मी को घायल करते हुए दिख रहा है. इसके जवाब में पुलिसकर्मियों ने चालक को लाठियों से पीट दिया और लात मारी.

दिल्ली पुलिस ने एक बयान में कहा, "यह कथित घटना ग्रामीण सेवा टेंपो के एक पुलिस वाहन से टकराने से शुरू हुई. इसके बाद, टेंपो चालक ने एक पुलिस अधिकारी के सर पर तलवार से हमला कर दिया. जिसके बाद, उसने खतरनाक ढंग से टेंपो चलाते हुए एक पुलिसकर्मी का पैर घायल कर दिया."

रविवार की शाम दिल्ली के मुखर्जी नगर इलाके में छोटी सी बात पर जमकर हंगामा हुआ. दरअसल विवाद की शुरुआत दिल्ली पुलिस और ग्रामीण सेवा के ड्राइवर सरबजीत सिंह के बीच में गाड़ी को सड़क पर रोककर सवारी बैठाने को लेकर उस वक़्त  शुरू हुआ जब सरबजीत नाम का चालक गांधी विहार से आ रहा था, तो सरबजीत ने सवारी बैठाने के लिए सड़क पर अपनी गाड़ी को रोक दिया जिसकी वजह से जाम लगने की संभावना को देखते हुए मुखर्जी नगर थाने के एएसआई देवेंद्र से सरबजीत को टोका तो दोनों के बीच हल्की कहासुनी हो गई.

उस वक़्त तो देवेंद्र वहां से चले गए लेकिन सरबजीत जैसे ही थाने के पास पहुंचा एएसआई देवेंद्र ने उसे रोका और गाड़ी बीच सड़क पर खड़ी करने को लेकर फिर टोका तो सरबजीत ने अपनी तलवार निकाल कर पुलिस वाले को धमकाना शुरू कर दिया. सरबजीत के हाथ मे तलवार देख कर देवेंद्र ने फोन कर अपने साथी पुलिस वालों को बुलाने लगा. फोन करने के बाद देवेंद्र पैदल ही थाने गया और कई पुलिस वालों के साथ वापस आया. लेकिन उस वक़्त तक सरबजीत अपने 15 साल के बेटे बलवंत के साथ अपनी गाड़ी की तरफ जा रहा था. पीछे से आ रहे पुलिस वालों ने सरबजीत को आवाज़ लगाकर रुकने को बोला तो सरबजीत तलवार लेकर पुलिस वालों की तरफ आने लगा.

सरबजीत के हाथ मे तलवार देख पुलिस वाले रुक गए और पीछे हटने लगे. इसी बीच सादे कपड़ों में एएसआई योगराज ने सरबजीत को पीछे से पकड़ लिया. सरबजीत को बेबस देख मौके पर मौजूद पुलिस वालों ने डंडों से पीटना शुरू कर दिया. इस दौरान सरबजीत भी पुलिस वालों से भिड़ गया और उसने तलवार से पुलिस वालों के ऊपर हमला कर दिया, जिसमे योगराज के सिर पर चोट आई.

(आईएएनएस इनपुट के साथ)