सिरसा में कर्फ्यू में ढील खत्म, हाईकोर्ट ने मांगे राम रहीम के कॉल डिटेल्स

रेप के मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के बाद हुई हिंसा के बाद से कर्फ्यू लगे शहर सिरसा में रविवार को सुबह 6 बजे से 11 बजे तक के लिए कर्फ्यू में ढील दी गई थी.

सिरसा में कर्फ्यू में ढील खत्म, हाईकोर्ट ने मांगे राम रहीम के कॉल डिटेल्स
हरियाणा के सिरसा में सुबह 11 बजे तक कर्फ्यू में ढील गई थी (फाइल फोटोःपीटीआई)

नई दिल्लीः रेप के मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के बाद हुई हिंसा के बाद से कर्फ्यू लगे शहर सिरसा में रविवार को सुबह 6 बजे से 11 बजे तक के लिए कर्फ्यू में ढील दी गई थी. उधर पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने पुलिस से फोन कॉल डिटेल्स की मांग की है. हाईकोर्ट ने यह आदेश इसलिए दिया ताकि पता लगाया जा सके कि क्या डेरा प्रमुख की ओर से कोई ऐसा गुप्त संदेश अपने समर्थकों को भेजा गया था जिसमें हिंसा भड़काने के बारे में कहा गया था. हालांकि डेरा प्रमुख ने कोर्ट जाने से पहले अपने समर्थकों से शांति बनाए रखने और घर वापस लौट जाने को कहा था, लेकिन  हाईकोर्ट ने शनिवार को दिए अपने आदेश में कहा है कि हो सकता है कि डेरा प्रमुख की ओर से कोई और भी संदेश प्रसारित किया गया हो. इसलिए इन सभी कॉल डिटेल को अदालत के सामने पेश किए जाएं.

तीन जजों की पीठ ने आदेश जारी करते हुए कहा ' डेरा सच्चा सौदा की ओर से भेजा गया फोन पर कोई भी ऐसा मैसेज जो हिंसा के लिए जिम्मेदार हो, उसकी डिटेल सीलबंद लिफाफे में पेश की जाए.' वहीं हाईकोर्ट  ने हरियाणा सरकार को भी आदेश दिया है कि अगली सुनवाई में वह यह बताए कि इस तरह के मामलों में वह भविष्य में क्या कदम उठाएगी ताकि हिंसा न होने पाए.  

हरियाणा में हुई हिंसा में अब तक 36 की मौत

डीजीपी बीएस संधु ने शनिवार शाम कहा,‘इस हिंसा में 36 लोगों की मौत हुई है, जिनमें से छह मौतें सिरसा में और शेष पंचकूला में हुई हैं.’ डीजीपी बीएस संधू ने बताया कि हिंसा में अब तक 269 घायल हुए हैं. सिरसा जिला प्रशासन ने  रविवार सुबह छह बजे से 11 बजे तक कर्फ्यू में ढील देने का फैसला किया है.

यह भी पढ़ेंः कुरुक्षेत्र : डेरा के नौ केंद्र सील, हजारों लाठियां, धारदार हथियार बरामद

पुलिस ने बताया कि मृतकों में 36 लोगों की पहचान कर ली गई है. पड़ोसी राज्‍य पंजाब से किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है. साथ ही, सुरक्षा बलों ने भी फ्लैग मार्च किया और संवेदनशील इलाकों में कड़ी निगरानी की. कुछ स्थानों पर कर्फ्यू में ढील दी गई है. इस बीच, हरियाणा सरकार ने शनिवार को पंचकूला के उप पुलिस आयुक्त (डीसीपी) को निलंबित कर दिया. उन पर आरोप लगाया गया कि उनके एक त्रुटिपूर्ण आदेश के चलते जिले में भीड़ जमा हुई. वहीं, हरियाणा सरकार को राज्य के उप महाधिवक्ता गुरदास सालवरा की सेवाएं खत्म करने को मजबूर होना पड़ा.  डेरा प्रमुख को अदालत द्वारा दोषी करार दिए जाने के बाद उन्हें उसके साथ कथित तौर पर देखा गया था. 

यह भी पढ़ेंः डेरा हिंसा : मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 36 हुई, पंचकूला डीसीपी निलंबित

552 उपद्रवी गिरफ्तार

यही नहीं डीजीपी ने जानकारी दी कि पुलिस ने एक्शन लेते हुए 552 उपद्रवियों को गिरफ्तार किया है. आपको बता दें कि गुरमीत राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के तुरंत बाद ही उनके समर्थक उग्र हो गए और हरियाणा-पंजाब समेत 5 राज्यों में उन्होंने बवाल काटा. हिंसा का सबसे ज्यादा असर पंचकूला में देखने को मिला है, यहां 31 लोगों की मौत हो गई है. डीजीपी ने बताया कि हिंसा के मामलों में 34 केस दर्ज किए गए हैं.