इस मान्यता की वजह से चंडीगढ़ में नहीं बना था सेक्टर-13, 2020 में टूटेगा ये तिलिस्म!

नए साल में चंडीगढ़ की नई तस्वीर देखने को मिल सकती है. चंडीगढ़ प्रशासन, चंडीगढ़ की कई जगहों के नाम बदलने की तैयारी में है. 

इस मान्यता की वजह से चंडीगढ़ में नहीं बना था सेक्टर-13, 2020 में टूटेगा ये तिलिस्म!
चंडीगढ़ प्रशासन ने मनीमाजरा को सेक्टर 13 नाम देने का प्रपोजल पेश किया है.

चंडीगढ़: नए साल में चंडीगढ़ की नई तस्वीर देखने को मिल सकती है. चंडीगढ़ प्रशासन, चंडीगढ़ की कई जगहों के नाम बदलने की तैयारी में है. प्रशासन ने एक पब्लिक नोटिस जारी करते हुए मनीमाजरा, धनास, मलोया सहित आठ जगहों को नए नाम देने के लिए लोगों से उनकी राय पूछी है. सबसे खास बात ये है कि आर्किटेक्ट ली कार्बूजिए ने शहर को बसाते हुए सेक्टर-13 को शामिल नहीं किया था क्योकिं वो इस नंबर को अशुभ मानते थे लेकिन चंडीगढ़ प्रशासन ने मनीमाजरा को सेक्टर 13 नाम देने का प्रपोजल पेश किया है.

इसके साथ ही यूटी प्रशासन द्वारा शहर के कुछ और इलाकों को सेक्टर में शामिल करने का प्रपोज़ल है. प्रशासन सारंगपुर को सेक्टर-12 वेस्ट और धनास को सेक्टर-14 से जोड़ते हुए सेक्टर-14 वेस्ट, मलोया और ड्डूमाजरा को सेक्टर-39 वेस्ट और पलसोरा को 56 वेस्ट बनाने की तैयारी में है. इन जगहों के अलावा इंडस्ट्रियल एरिया फेज़ 1, फेज़ 2, फेज़ 3 को बिजनेस एंड इंडस्ट्रियल पार्क 1, पार्क 2 और पार्क 3 बनाने का प्रस्ताव भी जारी किया गया है.

यह भी देखें: -

चंडीगढ़ प्रशासक के सलाहकार मनोज परिदा ने ज़ी मीडिया से खास बातचीत में बताया कि  बीते कई सालों से इन जगहों पर रहने वाले लोग सेक्टर में शामिल होने की मांग कर रहे थे. उन्होनें कहा चंडीगढ़ में रहने के बावजूद ये लोग खुद को चंडीगढ़ से कटा हुआ महसूस करते थे. परिदा ने कहा लोगों की मांग को देखते हुए प्रशासन दृारा प्रस्ताव तैयार किया गया है अगर किसी को कोई आब्जेकशन है तो वो 31 दिसंबर तक एतराज़ दर्ज करवा सकते हैं. उन्होनें कहा भले ही निर्माता ली कार्बूजिए के लिए 13 नंबर अशुभ था लेकिन सिखों में 13 नंबर की बहुत मान्यता है और श्री गुरू नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पर हमने ये प्रस्ताव पेश किया है कि मनीमाजरा को सेक्टर 13 का नाम दिया जाए.

मनीमाजरा के पार्षद जगतार सिंह जग्गा ने कहा कि मनीमाजरा के साथ सेक्टर 13 जुड़ना किसी खुशी से कम नहीं है उन्होंने कहा मनीमाजरा चंडीगढ़ का सबसे पुराना इलाका है हालांकि यहां सभी सुमदाय के लोग रहते है लेकिन सिखों की गिणती मनीमाजरा में ज्यादा है और उन्होनें ही प्रशासक वी पी बदनौर के सामने मनीमाजरा के साथ सेक्टर 13 जोड़ने का प्रस्ताव पेश किया था. उन्होनें कहा सिख तो नंबर 13 को शुभ मानते है क्योकिं श्री गुरू नानक देव जी ने ' तेरा -तेरा ' का उच्चारण किया था. पार्षद जगतार सिंह जग्गा ने कहा मनीमाजरा, धनास, मलोया, ड्डूमाजरा इलाकों में रहने वाले लोग जब पासपोर्ट या वीज़ा के लिए अप्लाई करते हैं तब भी उनकों दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. उन्होनें कहा उम्मीद है सेक्टर में शामिल होने के बाद शहरवासियों को मिलने वाली सुविधाएं इन इलाकों में रहने वाले वासियों को भी मिलेंगी.

यूटी प्रशासन द्वारा जारी किए प्रस्ताव को लेकर अल्ग अल्ग प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं. यहां इन इलाकों में रहने वाले लोग सेक्टर में शामिल होने को लेकर खुशी ज़ाहिर कर रहें हैं वहीं चंडीगढ़ की पुर्व चीफ आर्किटेक्ट सुमित कौर का कहना है कि चंडीगढ़ देश की पहली planned city है जिसके निमार्ता स्विस फ्रेंच आर्किटेक्ट ली कार्बुज़िए है.

आर्किटेक्ट सुमित कौर ने कहा  ली कार्बुज़िए ने इस शहर का मास्टर प्लेन तैयार कर इसे बसाया. उन्होनें कहा कि हैरीटेज़ सिटी में इस तरह के बदलाव नहीं करने चाहिए. खैर चंडीगढ़ वासी इस प्रस्ताव को लेकर अपनी अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहें हैं. फिलहाल यू टी प्रशासन से चंडीगढ़ वासियों से उनकी राय जानने के लिए पब्लिक नोटिस जारी किया है और लोगों की राय जानने के बाद ही प्रशासन आखिरी फैसला लेगा.  अगर लोगों से साकारात्मक रिस्पोंस मिला तो मनीमाजरा सहित अन्य जगहों को सेक्टर की पहचान मिल सकती है.