सेक्‍स सीडी विवाद: आप नेता आशुतोष को महंगा पड़ा संदीप का बचाव करना; NCW ने किया तलब, शिकायत भी दर्ज

राष्ट्रीय महिला आयोग ने ‘सेक्स टेप’ कांड में फंसे दिल्ली के बर्खास्‍त मंत्री संदीप कुमार का बचाव करने को लेकर आप नेता आशुतोष को तलब किया है। दरअसल आप प्रवक्ता आशुतोष ने एक विवादित ब्लॉग के जरिये आपत्तिजनक सीडी को लेकर दिल्ली के मंत्री संदीप कुमार का बचाव करते हुए कहा था कि यह सहमति से किया गया था और इस तरह उन्होंने कुछ गलत नहीं किया। हालांकि, बाद में एनसीडब्ल्यू अध्यक्ष ललिता कुमारमंगलम और आप प्रवक्ता के बीच जुबानी जंग छिड़ गई।

सेक्‍स सीडी विवाद: आप नेता आशुतोष को महंगा पड़ा संदीप का बचाव करना; NCW ने किया तलब, शिकायत भी दर्ज
फाइल फोटो

नई दिल्‍ली : राष्ट्रीय महिला आयोग ने ‘सेक्स टेप’ कांड में फंसे दिल्ली के बर्खास्‍त मंत्री संदीप कुमार का बचाव करने को लेकर आप नेता आशुतोष को तलब किया है। दरअसल आप प्रवक्ता आशुतोष ने एक विवादित ब्लॉग के जरिये आपत्तिजनक सीडी को लेकर दिल्ली के मंत्री संदीप कुमार का बचाव करते हुए कहा था कि यह सहमति से किया गया था और इस तरह उन्होंने कुछ गलत नहीं किया। हालांकि, बाद में एनसीडब्ल्यू अध्यक्ष ललिता कुमारमंगलम और आप प्रवक्ता के बीच जुबानी जंग छिड़ गई।

एनसीडब्ल्यू अध्यक्ष ललिता कुमारमंगलम ने कहा कि हमने उनसे आठ सितंबर को आने को कहा है। उन्होंने बताया कि उन्हें लगता है कि आशुतोष ने काफी निंदनीय और अपमानित करने वाला ब्लॉग लिखा है, जिसमें उन्होंने बलात्कार के एक आरोपी का बचाव किया है। उन्होंने कहा कि आयोग ने व्यापक हित में इस पर गौर किया क्योंकि हमें लगता है कि दिल्ली में शासन करने वाली पार्टी और जिस पार्टी के सदस्य महिलाओं के खिलाफ हिंसा की गई घटनाओं में आरोपी रहे हैं उस पार्टी के एक प्रवक्ता के तौर पर, उन्हें इस तरह का ब्लॉग नहीं लिखना चाहिए था जिससे पितृसत्ता और स्त्री द्वेष की बू आती है। उन्होंने यह भी कहा कि जब एक आपराधिक जांच जारी थी तब आशुतोष घटना के बीच में ऐसे कूद पड़े कि यह दो लोगों के बीच का मामला हो। जब आप सार्वजनिक जीवन में होते हैं, तब सादगी के मानदंड होते हैं जिसका हर किसी को पालन करना होता है चाहे वह पुरूष हों या स्त्री।

उधर, बलात्कार के आरोपी आप मंत्री संदीप कुमार को बर्खास्‍त किए जाने के बाद उनके बचाव में लिखे गए ब्लॉग के आधार पर दिल्ली पुलिस ने आप नेता आशुतोष के खिलाफ एक शिकायत दर्ज की है। उत्तरी-पूर्वी दिल्ली के ज्योति नगर थाने में दर्ज करायी गयी शिकायत में पुलिस से मांग की गयी है कि वह आशुतोष को ‘मानसिक जांच’ के लिए भेजे और संबंधित कानून के तहत उनके खिलाफ मामला दर्ज करे। शिकायतकर्ता आरटीआई कार्यकर्ता और पूर्व पत्रकार सुबोध जैन ने कहा कि संदीप कुमार के बचाव में आशुतोष का बयान की यह उनके ‘‘व्यक्तिगत जीवन’’ का मामला है, उनकी ‘विकृत मानसिकता’ का संकेत है।