शाहीनबाग: पत्रकारिता का स्टूडेंट चला बैठा गोलियां, पिता लड़ चुके बसपा से चुनाव

गोलियां चलाकर बवाल मचा देने वाला आरोपी कपिल गुर्जर पत्रकार बनना चाहता था.

शाहीनबाग: पत्रकारिता का स्टूडेंट चला बैठा गोलियां, पिता लड़ चुके बसपा से चुनाव
आरोपी युवक कपिल गुर्जर पत्रकार बनना चाहता था. (फोटो: ANI)

नई दिल्ली: शाहीनबाग में शनिवार को हवा में गोलियां चलाकर बवाल मचा देने वाला आरोपी युवक कपिल गुर्जर पत्रकार बनना चाहता था. पत्रकारिता में एडमिशन भी लिया. जैसे-तैसे एक साल पत्रकारिता की पढ़ाई की. मन नहीं लगा तो गांव में ही पिता और भाइयों के बिजनेस में शरीक हो गया. शनिवार को दोपहर में घर से खाना खाकर बाहर गया. घर से निकलते वक्त बोल कर गया कि, घूमने जा रहा हूं. शाम करीब पांच बजे शाहीन बाग में जब टीवी पर कपिल गुर्जर द्वारा गोली चला देने की खबरें देखीं तो, परिवार और दल्लूपुरा गांव में कोहराम मच गया.

घटना के तुरंत बाद आईएएनएस आरोपी के पूर्वी दिल्ले जिले में मौजूद दल्लुपूरा गांव स्थित पुश्तैनी घर पर जा पहुंचा. आरोपी के घर के बाहर हुजूम उमड़ा मिला. जैसे-तैसे हमलावर/आरोपी कपिल के पिता गजे सिंह गुर्जर और कपिल के बड़े भाई सचिन से मुलाकात हो सकी. गजे सिंह गुर्जर बड़े बेटे सचिन और कुछ गांव वालों की भीड़ के साथ घटनास्थल (शाहीनबाग) की ओर कूच करने की तैयारी में थे.

उसके पास हथियार कहां से आया?
आईएएनएस से हुई विशेष बातचीत के दौरान शनिवार शाम कपिल (शनिवार की शाम शाहीनबाग इलाके में पुलिस की मौजूदगी में हवा में तीन गोलियां चलाने वाले) के पिता गजे सिंह ने बताया, "कपिल दोपहर के वक्त खाना खाकर घर से निकला था. कहां गया हमें नहीं पता था. हमारे पास तो गांव के कुछ लड़के शाम के वक्त दौड़ते-हांफते पहुंचे. उन्होंने बताया कि कपिल ने शाहीनबाग में गोलियां दाग दी हैं. इतना सुनते ही मेरे दिमाग में पहले दो ही सवाल आए कि वो शाहीनबाग पहुंचा कैसे और किनके साथ गया? दूसरा सवाल था कि उसके पास हथियार कहां से आया?"

शाहीन बाग में 25 साल के कपिल गुर्जर ने क्यों दागी ताबड़तोड़ गोलियां, बताई ये वजह

बेटे की हरकत से हड़बड़ाए पिता गजे सिंह गुर्जर को पीछे धकेलते हुए उनका बड़ा बेटा (शाहीनबाग में गोलियां चलाने वाले कपिल का बड़ा भाई) सचिन आईएएनएस से बात करने लगा. सचिन ने बताया, "हमारा परिवार क्या पूरा गांव (दल्लूपुरा गांव) हतप्रभ है. किसी को उम्मीद नहीं थी कि कपिल ऐसा कुछ कर बैठेगा. हम सब अब थाना शाहीनबाग जा रहे हैं. सुना है कि उसे (गोली चलाने के आरोपी छोटे भाई कपिल को) पुलिस पकड़कर किसी थाने में ले गई है."

प्रॉपर्टी डीलिंग के काम में हाथ बंटा रहा था
आईएएनएस के साथ विशेष बातचीत में कपिल के बड़े भाई सचिन ने कहा, "कपिल ने तीन-चार साल पहले ही इंटर तक की पढ़ाई दिल्ली से की थी. उसके बाद उसने मास कम्युनिकेशन में बीए में दाखिला ले लिया. एक साल पढ़कर उसने पत्रकारिता की पढ़ाई भी छोड़ दी. तभी से वो पापा और हम लोगों (बाकी बड़े भाइयों के साथ) के साथ दूध की डेयरी और प्रॉपर्टी डीलिंग के काम में हाथ बंटा रहा था."

नगर निगम का चुनाव भी लड़े थे पिता
शाहीनबाग में शनिवार शाम पुलिस की मौजूदगी में फायरिंग करने वाले कपिल गुर्जर के बड़े भाई सचिन के मुताबिक, "पिता गजे सिंह गुर्जर कुछ साल पहले बसपा से दिल्ली नगर निगम का चुनाव भी लड़े थे. उस चुनाव में वे हार गए. उसके बाद से ही हम सब भाई पिता के साथ प्रॉपर्टी डीलिंग और दूध के कारोबार में हाथ बंटा रहे हैं."