शाहीन बाग: सड़क खाली करने को तैयार नहीं प्रदर्शनकारी, आम लोगों को हो रही परेशानी

दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में नागरिक संशोधन कानून के खिलाफ 33वें दिन भी लोगों का धरना प्रदर्शन जारी है. 

शाहीन बाग: सड़क खाली करने को तैयार नहीं प्रदर्शनकारी, आम लोगों को हो रही परेशानी
रोड नंबर 13 के बंद होने से आम लोग काफी परेशान हैं.

नई दिल्ली: दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में नागरिक संशोधन कानून के खिलाफ 33वें दिन भी लोगों का धरना प्रदर्शन जारी है. सड़कों पर प्रदर्शनकारी बैठे हैं. उनके खाने-पीने का इंतजाम भी वहीं किया गया है. हाईकोर्ट के आदेश के बाद दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शनकारियों से बातचीत कर रही है पर नतीजा अब तक कोई निकला नहीं है. हालांकि सुरक्षा के नाम पर आज पुलिस ने एसएसबी, सीआरपीएफ ओर लोकल पुलिस को भी तैनात किया है. डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने इलाके के तमाम लोकल नेताओं समेत विधायक अमानतुल्ला खान को भी बातचीत के लिए बुलाया ताकि प्रदर्शन कर रहे लोगों से बात कर रोड नंबर 13 को खोला जाय.

रोड नंबर 13 के बंद होने से आम लोग काफी परेशान हैं. खासकर बच्चों को स्कूल जाने के लिए अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. बता दें कि 15 दिसंबर से इस रोड को बंद किया गया थ और आज 15 जनवरी है. करीब 1 महीने से ये रोड बंद पड़ा है. सबसे ज्यादा परेशानी उन मासूम बच्चों को है जो इन इलाकों से नोएडा पढ़ने जाते हैं. 

स्कूल खुलने के बाद से हर रोज इन्हें जाम का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि हाईकोर्ट के आदेश के बाद पुलिस प्रदर्शनकारियों से बातचीत कर रही है ताकि इस रास्ते को अब खोला जा सके. सुरक्षा के लिहाज से यहां पैरामिलिट्री फोर्स को तैनात किया गया है. रोड खोलने को लेकर मंगलवार देर तक पुलिस हेडक्वार्टर में आला अधिकारियों के साथ मीटिंग भी हुई है कि कैसे इस रोड नंबर 13 को खाली कराया जाए. 

इसी बीच कांग्रेस के मणिशंकर अय्यर जैसे नेता यहां आकर लोगों को उकसा भी जाते हैं. इस विरोध में महिलाएं भी अपने अपने बच्चों के साथ बीच रोड पर धरने पर बैठ रही हैं. स्थानीय नेताओं का भाषण का दौर लगातार जारी है. मंगलवार देर रात पंजाब से भी सिख समुदाय के लोग इस धरने में बैठ गए हैं. पुलिस की कोशिश ये है कि बिना किसी जोड़ जबरदस्ती के इस प्रोटेस्ट को यहां से हटाया जाए. ताकि एक महीने से जाम से जूझ रहे लोगों को राहत मिल सके.