दिल्ली विधानसभा के विशेष सत्र के हंगामेदार रहने के आसार

दिल्ली विधानसभा के विशेष सत्र के हंगामेदार रहने के आसार
दिल्ली विधानसभा (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः दिल्ली विधानसभा के बुधवार को होने वाले एक दिवसीय विशेष सत्र के हंगामेदार रहने के आसार हैं क्योंकि सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी और विपक्षी भाजपा प्रस्तावित मेट्रो किराया बढ़ोतरी तथा अतिथि शिक्षक विधेयक जैसे तमाम मुद्दों पर एक-दूसरे को घेरने के लिए तैयार हैं. उपराज्यपाल अनिल बैजल द्वारा विधानसभा के डिपार्टमेंट रिलेटड स्टैडिंग कमेटीज ( डीआरएससी) के अधिकारों के वापस लेने के केन्द्र से अनुरोध करने का मुद्दा भी कल विधानसभा में उठ सकता है.

बैजल ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिख कर अतिथि शिक्षक नियमितिकरण विधेयक पर यह कहते हुए दोबारा ध्यान देने का अनुरोध किया है कि यह संवैधानिक योजना के अनुरूप नहीं है. यह विधेयक कल पेश किया जाना है. उपराज्यपाल के पत्र के संबंध में पूछे जाने पर सरकार के एक सूत्र ने कहा विधेयक को पेश किए जाने के संबध में विधानसभा ही अंतिम निर्णय लेगी. वहीं विपक्षी नेता विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि यह विधेयक आम आदमी पार्टी का ‘‘ सरासर लोकलुभावन कदम’’ है.

यह भी पढ़ेंः दिल्ली में 15000 गेस्ट टीचरों को पक्का करने का मामला अधर में लटका

आपको बता दें कि दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने मंगलवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर उनसे अतिथि शिक्षकों की नौकरी पक्की करने से संबंधित विधेयक कल विधानसभा में पेश करने के मंत्रिमंडल के फैसले पर पुनर्विचार करने का अनुरोध किया. बैजल ने पत्र में केजरीवाल से कहा कि यह विधेयक राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली क्षेत्र के शासन की संवैधानिक योजना के अनुरुप नहीं है. पिछले महीने मंत्रिमंडल से मंजूरी पाये इस विधेयक में करीब 15000 अतिथि शिक्षकों की नौकरी पक्की करने की व्यवस्था की गयी है. ये शिक्षक फिलहाल अनुबंध पर हैं.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.