हालात बदतर होते जा रहे हैं, एयर प्यूरीफायर टावर लगाने पर विचार करे दिल्ली सरकार: SC

दिल्ली सरकार ने अदालत में ऑड ईवन का बचाव किया और दावा किया कि इससे 5-15% प्रदूषण घटा है. हालांकि सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने कहा कि हमारे अध्ययन के मुताबिक ऑड ईवन से कोई फायदा नहीं हुआ है. 

हालात बदतर होते जा रहे हैं, एयर प्यूरीफायर टावर लगाने पर विचार करे दिल्ली सरकार: SC
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: दिल्ली (Delhi) में बढ़ते प्रदूषण (Pollution) को लेकर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई हुई. सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार से शहर में जगह-जगह एयर प्यूरीफायर टावर लगाने पर विचार करने को कहा है . 

दिल्ली सरकार ने अदालत में ऑड ईवन का बचाव किया और दावा किया कि इससे 5-15% प्रदूषण घटा है. हालांकि सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने कहा कि हमारे अध्ययन के मुताबिक ऑड ईवन से कोई फायदा नहीं हुआ है. केंद्र सरकार ने दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के आंकड़ों को लेकर एक हलफनामा दायर किया. 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि बंद कमरों में भी एक्यूआई लेवल बहुत खराब है हालात बदतर हो चुके हैं. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि बंद कमरों में भी एक्यूआई लेवल बहुत खराब है हालात बदतर हो चुके हैं. सरकार ने अदालत को बताया कि दिल्ली में एयर प्यूरीफायर (वायु) लगया है जिसका ट्रायल चल रहा है इसमें कम से कम 1 साल का समय लगेगा. 

आईआईटी बॉम्बे के प्रोफेसर ने कहा कि टॉवर नीचे के इलाके की हवा को साफ करेगा. प्रोफेसर ने कहा कि एयर प्यूरीफायर टावर 1 किलोमीटर के दायर की हवा को साफ करेगा. प्रोफेसर ने चीन में जैसा टावर लगा है वैसा टावर लगाने की सलाह दी है.  जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा कि किसी और टेक्नोलॉजी को ढूंढ़िए जो ज़्यादा रेंज तक हवा को साफ कर सके, कम से कम 10 किमी के दायरे को साफ कर पाए.