close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली हाईकोर्ट करेगा पुलिस की याचिका पर सुनवाई, वकीलों ने किया काम का बहिष्कार

दिल्ली जिला अदालत के वकील तीस हजारी अदालत की घटना के विरोध में बुधवार को न्यायिक कार्य का बहिष्कार जारी रखेंगे.

दिल्ली हाईकोर्ट करेगा पुलिस की याचिका पर सुनवाई, वकीलों ने किया काम का बहिष्कार
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) परिसर में वकीलों और पुलिसकर्मियों के बीच झड़प के संबंध में दायर एक याचिका पर दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) आज सुनवाई करेगा. यह याचिका दिल्ली पुलिसकर्मियों ने 2 नवंबर को दायर की थी. इस याचिका पर दोपहर 3 बजे के आसपास सुनवाई होगी. याचिका हाईकोर्ट में दायर की गई है, क्योंकि दिल्ली पुलिस अपने दम पर आंदोलनकारियों की मांगों को पूरा नहीं कर सकती है.

इस बीच, दिल्ली जिला अदालतों के वकील तीस हजारी अदालत की घटना के विरोध में बुधवार को न्यायिक कार्य का बहिष्कार जारी रखेंगे. दिल्ली जिला अदालत समन्वय समिति ने एक विज्ञप्ति में कहा, "दिल्ली की सभी जिला अदालतों में काम करने से रोक बुधवार को भी जारी रहेगी." देखें LIVE TV

दूसरी ओर, बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने कानूनी बिरादरी के सदस्यों से अदालतों में शांति और सद्भाव बनाए रखने और अपने अदालती काम को फिर से शुरू करने की अपील की है. उधर, दिल्ली के हजारों पुलिस कर्मियों ने मंगलवार शाम को वरिष्ठ अधिकारियों से उनकी शिकायतों के निवारण का आश्वासन मिलने के बाद अपना विरोध प्रदर्शन समाप्त कर दिया. पुलिसकर्मियों ने मंगलवार सुबह से ही पुलिस मुख्यालय के बाहर घेराबंदी कर रखी थी

उल्लेखनीय है कि शनिवार को तीस हजारी अदालत परिसर में पार्किंग को लेकर एक वकील और कुछ पुलिसकर्मियों के बीच मामूली बहस हो गई, जिससे बाद इसने हिंसा का रूप ले लिया. इस दौरान एक वकील को गोली भी लग गई.

तीस हजारी कांड : 30 से ज्यादा वकील-पुलिसकर्मी घायल, SIT गठित; अदालतें सोमवार तक बंद

पुलिस ने दावा किया, "एक अतिरिक्त डीसीपी और दो एसएचओ सहित बीस पुलिसकर्मियों को चोटें लगी हैं. आठ अधिवक्ता भी जख्मी हुए हैं. 12 मोटरसाइकिलें, एक पुलिस क्यूआरटी जिप्सी और आठ जेल वैन क्षतिग्रस्त हो गए."

इस बीच दिल्ली पुलिस ने तीस हजारी अदालत परिसर में हुई हिंसा पर गृह मंत्रालय को एक रिपोर्ट सौंपी है. दिल्ली पुलिस को सीधे नियंत्रित करने वाले मंत्रालय ने हिंसक झड़पों के ठीक एक दिन बाद दिल्ली पुलिस से रिपोर्ट मांगी थी.