close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अयोध्या केस में सुप्रीम कोर्ट के फैसले से सत्य की विजय: विश्व हिंदू परिषद

वीएचपी के अध्यक्ष आलोक कुमार ने नई दिल्ली में प्रेस वार्ता के दौरान बताया कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला किसी की जय या पराजय नहीं है. आज सत्य की विजय हुई है.

अयोध्या केस में सुप्रीम कोर्ट के फैसले से सत्य की विजय: विश्व हिंदू परिषद

नई दिल्ली: अयोध्या केस में सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद विश्व हिंदू परिषद (VHP) ने कहा है कि किसी को अपमानित नहीं किया जाएगा. विश्व हिंदू परिषद सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करता है. वीएचपी के अध्यक्ष आलोक कुमार ने नई दिल्ली में प्रेस वार्ता के दौरान बताया कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला किसी की जय या पराजय नहीं है. आज सत्य की विजय हुई है. आज ये साबित हुआ है कि विवादित जमीन के नीचे मंदिर था. 

आलोक कुमार ने कहा, 'राम मंदिर के अलावा औऱ किसी काम को देखने की फुरसत नहीं है. मंदिर निर्माँण का वास्तविक काम अभी होना है. सारे कंप्लायनेंस को फॉलो करेंगे. जजमेंट का स्वागत करता हूं. सुप्रीम कोर्ट के जजों ने अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन अच्छे से किया है.'

अयोध्या केस में लंबी न्यायिक प्रक्रिया के बाद न्याय मिला: RSS प्रमुख मोहन भागवत
इससे पहले अयोध्या मामले में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा है कि सभी मिल जुलकर राम मंदिर निर्माण करें. भागवत ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले को हार जीत के रूप में ना देखा जाए. भागवत ने कहा कि आरएसएस सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करता है. कोर्ट में सभी पहलुओं पर विचार हुआ है. हमें झगड़ा विवाद समाप्त करना है. अयोध्या की सीमा के अंदर ही मस्जिद बनाए जाने के सवाल पर भागवत ने कहा कि जमीन हमें नहीं देनी है सरकार को देनी है.

यह भी पढ़ें- अयोध्या केस में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर क्या बोले असदुद्दीन ओवैसी?

मोहन भागवत ने कहा कि हम पहले कोर्ट के निर्णय का अध्ययन करेंगे. आगे का काम सरकार देखेगी. 

हम कुछ नहीं चाहते कि मस्जिद की जमीन कहां मिले. हम सिर्फ मंदिर चाहते हैं वो हमें मिल गया है. काशी और मथुरा के विवाद पर भागवत ने कहा कि संघ किसी कार्य को नहीं करता है. संघ आंदोलन का हिस्सा बनता है. आगे हम अपने भविष्य निर्माण में लग जाएंगे.