close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जब अचानक ही खेल के बीच 'कबड्डी-कबड्डी' करने लगे CM खट्टर, जानें क्या थी वजह

राहगिरी में युवाओं की ज्यादा से ज्यादा सहभागिता हो और वो क्राइम और नशों से दूर रहकर अपनी उर्जा को सकारात्मक दिशा में प्रयोग लाएं, इसी उद्देश्य के साथ 'संडे' को हरियाणा में 'फन-डे' के तौर राहगिरी के जरिए मनाया जाता है. 

जब अचानक ही खेल के बीच 'कबड्डी-कबड्डी' करने लगे CM खट्टर, जानें क्या थी वजह
हिसार में राहगिरी कार्यक्रम में शिकरत करते मुख्यमंत्री मनोहर लाल और अन्य.

हिसारः हरियाणा के हिसार के चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय की में हरियाणा के सीएम मनोहर लाल कबड्डी की रेड का मजा लेते नजर आए. मौका था राज्यस्तरीय राहगिरी का. दरअसल, हरियाणा के तमाम जिलों में पिछले करीब ढाई साल से राहगीरी कार्यक्रमों का आयोजन हो रहा है. इसी दौरान एक जगह कबड्डी खेल देखते ही मुख्यमंत्री मनोहर लाल अप्रत्याशित रूप से कबड्डी-कबड्डी करते हुए खिलाडियों के बीच मैदान में पहुंच गए और एक सांस में रेड मारकर वापस लौट आए. इसे देख खिलाड़ी ही नहीं, हर कोई दंग रह गया. 

इसी प्रकार सेल्फ डिफेंस की स्टाल पर आत्मरक्षा तकनीकों का प्रदर्शन कर रही बेटियों का भी मुख्यमंत्री ने न केवल हौसला बढ़ाया बल्कि उन्हें आत्मरक्षा की तकनीकों के बारें में भी बताया. मुख्यमंत्री ने बॉक्सिंग रिंग में उतरकर खिलाडिय़ों को प्रोत्साहित किया. वे महिलाओं के साथ मटका दौड़ में भी दौड़े. कुल मिलाकर राहगिरी में मुख्यमंत्री मनोहर लाल भी खुद को शामिल होने से रोक नहीं पाएं. इस बीच हरियाणा के कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियां भी पेश की गई, वहीं कार्यक्रम में हरियाणा के कई अंतर्राष्ट्रीय लेवल के खिलाड़ी भी मौजूद रहे. 

SYL मामले पर CM अमरिंदर-मनोहर की हुई मुलाकात, नशा मुक्ति पर भी हुई चर्चा

आखिर क्यो मनाते हैं, 'संडे' को हरियाणा में 'फन डे'
राहगिरी में युवाओं की ज्यादा से ज्यादा सहभागिता हो और वो क्राइम और नशों से दूर रहकर अपनी उर्जा को सकारात्मक दिशा में प्रयोग लाएं, इसी उद्देश्य के साथ 'संडे' को हरियाणा में 'फन-डे' के तौर राहगिरी के जरिए मनाया जाता है. जैसा की नाम से ही प्रतीत हो रहा है, राहगिरी, इसके तहत चौक-चौराहे या अन्य खुले स्थान मसलन सड़क इत्यादि पर खेल और सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किए जाते है. 

हरियाणा के CM मनोहर लाल खट्टर बोले- बजट ग्रामीण इलाकों को मजबूती प्रदान करने वाला

अलग-अलग श्रेणियों में मिला सम्मान
हिसार में इसी के तहत राज्यस्तरीय राहगिरी और पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन हुआ. कार्यक्रम की खासियत यह थी कि  इस राहगिरी में हरियाणा के तमाम जिलों में अलग-अलग 5 श्रेणियों के टॉप उन अफ्सरों को सम्मानित किया गया, जिन्होंने राहगिरी में अपनी ज्यादा भूमिका निभाते हुए युवाओं को इसके साथ जोडऩे का काम किया है. मुख्यमंत्री ने जिला स्तर पर आयोजित होने वाले राहगिरी कार्यक्रमों में उल्लेखनीय प्रदर्शन करने वाले जिलों को अलग-अलग श्रेणियों में पुरस्कार देकर सम्मानित किया.

When suddenly Chief Minister Manohar Lal Khattar starts saying- kabaddi-kabadi between the game

अप्रैल 2018 से मार्च 2019 के बीच राहगिरी के सबसे अधिक कार्यक्रम आयोजित करने पर उन्होंने करनाल, गुरुग्राम व फतेहाबाद, राहगिरी कार्यक्रमों में प्रतिभागियों की संख्या के आधार पर गुरुग्राम, करनाल व हिसार, सबसे अधिक मीडिया कवरेज मिलने पर करनाल रोहतक व झज्जर, राहगिरी में उपायुक्तों की भागीदारी के आधार पर फतेहाबाद, कैथल व पानीपत, राहगिरी में पुलिस अधीक्षक की भागीदारी के आधार पर अंबाला को सम्मानित किया. इसके अलावा राहगिरी कार्यक्रम को लोकप्रिय बनाने में विशेष योगदान देने पर आईपीएस भारती अरोड़ा, पंकज नैन, सोनल गोयल व सारिका पांडा को भी सम्मानित किया गया.  

सीएम बोले: राहगिरी राजनीति के लिए नहीं, बल्कि सभी के लिए
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि राहगिरी से ना किसी पार्टी के वोट बढ़ेंगे और ना कम होंगे. ये राजनीति से जुड़ी नहीं, बल्कि सभी के लिए है. आमजन के जीवन में खुशी व समाज में भाईचारा बढ़ाने के लिए ही हरियाणा में ढाई साल पहले राहगिरी कार्यक्रम शुरू किए गए थे जिन्हें जनता ने काफी पसंद किया है. कार्यक्रम का मकसद भागदौड़ भरी जिंदगी को तनाव से मुक्त करना है. उन्होंने बताया कि भूटान में राष्ट्रीय समृद्धि का सूचकांक खुशी (हैप्पीनेस इंडेक्स) को माना जाता है. हमने भी उसी मकसद से यह कार्यक्रम शुरू किया है. 

VIDEO: अमित शाह और सीएम खट्टर के योग कार्यक्रम में योगा मैट के लिए मची लूट

हरियाणा के डीजीपी और एडीजीपी बोले, सामाजिक क्रांति है राहगिरी
हरियाणा के पुलिस महानिदेशक मनोज यादव ने इस बताया कि पिछले एक साल में प्रदेश में राहगिरी के 367 कार्यक्रम हुए. जिनमें 8.59 लाख व्यक्ति भागीदारी कर चुके हैं. उन्होंने आमजन को पानी की बचत के लिए प्रेरित किया. उपायुक्त अशोक कुमार मीणा ने राहगिरी को मुख्यमंत्री की अनूठी सोच का परिणाम बताया. वहीं राहगिरी एडीजीपी व मुख्यमंत्री के विशेष अधिकारी ओपी सिंह ने कहा कि यूथ की उर्जा को साकारात्मक दिशा में लगाने का राहगिरी एक माध्यम है. यह एक तरह से सामाजिक क्रांति है, ताकि देश के यूथ की उर्जा को सही दिशा में लगाकर समाज का विकास करवाया जा सके