ZEE जानकारी: स्कूल बस पर पथराव, विरोध प्रदर्शन में किसी सच्चे राजपूत का शौर्य नहीं हो सकता

फिल्म पद्मावत के खिलाफ होने वाला विरोध प्रदर्शन अब राजपूतों की शान से बहुत दूर हो चुका है.. और अब इसे कुछ असामाजिक लोगों ने हाइजैक कर लिया है.

ZEE जानकारी: स्कूल बस पर पथराव, विरोध प्रदर्शन में किसी सच्चे राजपूत का शौर्य नहीं हो सकता

कहा जाता है कि सच्चा राजपूत निहत्थों, बच्चों और महिलाओं को कभी नुकसान नहीं पहुंचा सकता. क्योंकि राजपूत हमेशा रक्षा करने के लिए जाने जाते हैं. लेकिन आज हमारे पास इस राजपूतों की शान पर बट्टा लगाने वाला एक वीडियो आया है. सबसे पहले आप ये वीडियो देखिए और फिर हम आपको इसके बारे में विस्तार से बताएंगे. ये तस्वीरें दिल्ली के पास गुरुग्राम की हैं. जहां आज पद्मावत फिल्म के विरोध को लेकर राजपूत समाज के कुछ लोग विरोध प्रदर्शन कर रहे थे.  ये विरोध हिंसक हो गया था. और वो लोग वाहनों में तोड़फोड़ कर रहे थे. इसी दौरान वहां एक स्कूल की बस भी खड़ी थी. जिसमें स्कूली बच्चे बैठे हुए थे. और इन प्रदर्शनकारियों ने इस स्कूल बस पर भी पथराव कर दिया. उन्हें इतना भी ख्याल नहीं आया कि स्कूल बस में छोटे-छोटे बच्चे बैठे हैं. इन लोगों ने इस बस के शीशे तोड़ दिए...और पथराव किया...

आप खुद देखिए.. किस तरह से बस के अंदर बच्चे और टीचर्स दहशत में सीट की आड़ लेकर छिप गए हैं...और खुद को बचाने के लिए बैठ गए हैं... हमले के वक्त बस में करीब 10 से 12 बच्चे थे...मौके पर पुलिस वाले भी मौजूद थे... लेकिन पुलिस इन प्रदर्शनकारियों को नहीं रोक पाई. इस तरह के विरोध प्रदर्शन में किसी सच्चे राजपूत का शौर्य नहीं हो सकता. ये राजपूतों की शैली नहीं है. 

वैसे फिल्म पद्मावत के खिलाफ होने वाला विरोध प्रदर्शन अब राजपूतों की शान से बहुत दूर हो चुका है.. और अब इसे कुछ असामाजिक लोगों ने हाइजैक कर लिया है.  हमारे देश की अलग अलग राज्य सरकारों को ऐसे लोगों के साथ पूरी सख्ती से निपटना चाहिए.. वोट बैंक की राजनीति तो बाद में होती रहेगी.. उन्हें पहले अपने राज्य के नागरिकों की सुरक्षा पर ध्यान देना चाहिए.. लोग जब ज़िंदा बचेंगे तभी तो वोट दे पाएंगे... और अगर लोगों को दुखी और परेशान करके वोट मिल भी गये.. तो ऐसी सत्ता किस काम की.