close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रामजस कॉलेज कांड: दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्रों-शिक्षकों ने विरोध मार्च निकाला

अपनी ‘आवाज दबाए जाने’ से आक्रोशित दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) के सैकड़ों छात्रों और शिक्षकों ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की छात्र इकाई अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के खिलाफ विरोध मार्च निकाला। इस मामले के गरमाने के साथ ही देश में अभिव्यक्ति की आजादी पर बहस एक बार फिर छिड़ गई है।

रामजस कॉलेज कांड: दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्रों-शिक्षकों ने विरोध मार्च निकाला

नई दिल्ली : अपनी ‘आवाज दबाए जाने’ से आक्रोशित दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) के सैकड़ों छात्रों और शिक्षकों ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की छात्र इकाई अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के खिलाफ विरोध मार्च निकाला। इस मामले के गरमाने के साथ ही देश में अभिव्यक्ति की आजादी पर बहस एक बार फिर छिड़ गई है।

इस पूरे मामले से सुखिर्यों में आई गुरमेहर कौर ने एबीवीपी के खिलाफ मार्च से खुद को अलग कर लिया। रामजस कॉलेज में पिछले दिनों एबीवीपी की ओर से एक सेमिनार जबरन रद्द कराने और कथित तौर पर छात्रों एवं शिक्षकों की पिटाई करने का विरोध करने पर गुरमेहर को सोशल मीडिया पर बलात्कार की धमकियां मिली थीं।

आज हुए विशाल मार्च में बड़े पैमाने पर डीयू के छात्रों की भागीदारी देखी गई। डीयू के छात्रों की ओर से इस तरह का मार्च निकाला जाना इसलिए भी अहम है, क्योंकि अब तक जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) को ही इस तरह के विरोध प्रदर्शनों के लिए जाना जाता रहा है। इस मार्च में जेएनयू के छात्रों के साथ-साथ कई शिक्षाविदों और बुद्धिजीवियों ने भी हिस्सा लिया।

डीयू में आइसा की नेता कंवलप्रीत कौर ने कहा, ‘दिल्ली यूनिवर्सिटी सहित देश भर के उच्च शिक्षण संस्थानों में आवाज दबाने की कोशिशों के खिलाफ यह प्रदर्शन है। हम वाद-विवाद और असहमति की आजादी फिर से पाना चाहते हैं।’