जालसाज ने फर्जी लोन लेकर फाइनांस कंपनी से ऐसे ठगे 23 करोड़ रुपए

फर्जी लोन लेकर एक फाइनांस कंपनी को 23 करोड़ से ज्यादा रुपये का चूना लगाने वाले एक जालसाज को दिल्ली पुलिस की इओडब्ल्यू ने धर दबोचा है. इसकी पहचान ईस्ट पटेल नगर निवासी अमृत मान के तौर पर हुई है.

जालसाज ने फर्जी लोन लेकर फाइनांस कंपनी से ऐसे ठगे 23 करोड़ रुपए

नई दिल्ली: फर्जी लोन लेकर एक फाइनांस कंपनी को 23 करोड़ से ज्यादा रुपये का चूना लगाने वाले एक जालसाज को दिल्ली पुलिस की इओडब्ल्यू ने धर दबोचा है. इसकी पहचान ईस्ट पटेल नगर निवासी अमृत मान के तौर पर हुई है. वह अपना फर्जी फर्म बनाकर ठगी की वारदात कर रहा था और बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर डिग्री भी ली हुई थी. अमृत पहले निजी बैंकों के लिए लोन एजेंट का काम करता था.

दिल्ली पुलिस के EOW के जॉइंट सीपी डॉ. ओपी मिश्रा ने बताया कि हिंदुजा लीलैंड फाइनांस लिमिटेड ने फर्जी दस्तावेज पर लोन लेकर 23 करोड़ रुपये की ठगी की शिकायत की थी. कंपनी ने बताया कि इस ठगी में एक फर्म का डायरेक्ट सेल्स एजेंट अमृत मान, सेल्स मैनेजर नीलांजन मजुमदार और रिपोर्टिंग मैनेजर नितेश कुमार शामिल हैं. वे जाली दस्तावेजों के आधार पर लोन दिलाकर रुपयों की हेराफेरी कर रहे हैं. आरोपी गलत तरीके से लोन दिलाकर 23 करोड़ की चपत कंपनी को लगा चुके हैं.

तभी एसीपी वीरेंद्र सिंह की टीम ने मामले की छानबीन शुरू की. बाद में पुलिस ने मास्टरमाइंड अमृत मान को गिरफ्तार कर लिया. जांच में मालूम हुआ है कि अमृत मान पहले निजी बैंकों में लोन एजेंट का काम कर चुका है. लिहाजा उसे लोन प्रक्रिया की पूरी जानकारी थी. यही नहीं वह लोन लेने  के लिए इंटरनल और इसकी खामियों को भी बखूबी जानता था. लिहाजा बाद में वह फंडविज के नाम से अपना फर्म बनाकर लोन के नाम पर नॉन बैंकिंग कंपनियों को चूना लगाने लगा था. इस काम में उसका साथ नॉन बैंकिंग फाइनांस कंपनियों के कर्मचारी देते थे. स्टाफ की मिलीभगत से फर्जी दस्तावेज पर अमृत नकली लोन हासिल कर लेता था.

ये भी देखें-