Smog : 'अस्‍पताल जाकर लोगों की परेशानी देखिए, शर्मनाक है...', NGT ने सरकार को फटकारा

एनजीटी ने कहा कि दिल्‍ली-एनसीआर में लोगों के लिए पिछला हफ्ता खतरनाक रहा. दिल्‍ली के लोगों से जीने का अधिकार छीन लिया. लोगों को जीने के लिए स्‍वच्‍छ वातावरण नहीं मिल रहा है. आपने जो करना था किया, अब हम बताएंगे कि आपको क्‍या करना है. 

Smog : 'अस्‍पताल जाकर लोगों की परेशानी देखिए, शर्मनाक है...', NGT ने सरकार को फटकारा
दिल्‍ली प्रदूषण : एनजीटी ने सुनवाई के दौरान एमसीडी के अलावा दिल्‍ली के साथ अन्‍य राज्‍यों को भी जमकर लताड़ा. (फोटो- Reuters)

नई दिल्‍ली : दिल्‍ली-NCR में प्रदूषण के मामले को लेकर गुरुवार को लेकर राष्‍ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) में सुनवाई के दौरान दिल्‍ली सरकार और एमसीडी को कड़ी फटकार लगी. एनजीटी ने दोनों को फटकराते हुए कहा कि 'आप अस्‍पताल जाकर लोगों की परेशानी देखिए. आप लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ कर रहे हैं. ये शर्मनाक है कि आप आने वाली पीढ़ी को क्‍या दे रहे हैं'. एनजीटी ने मामले की सुनवाई के दौरान अन्‍य राज्‍यों को भी जमकर लताड़ा.

एनजीटी ने कहा कि दिल्‍ली-एनसीआर में लोगों के लिए पिछला हफ्ता खतरनाक रहा. दिल्‍ली के लोगों से जीने का अधिकार छीन लिया. लोगों को जीने के लिए स्‍वच्‍छ वातावरण नहीं मिल रहा है. आपने जो करना था किया, अब हम बताएंगे कि आपको क्‍या करना है. 

इससे पहले बुधवार को एनजीटी ने वायु की गुणवत्ता खराब होने के बावजूद राष्ट्रीय राजधानी में निर्माण और औद्योगिक गतिविधियां बंद करने के वास्ते आदेश नहीं जारी करने के लिए दिल्ली सरकार और केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की खिंचाई की थी. अधिकरण ने इसके साथ ही पंजाब, उत्तर प्रदेश और हरियाणा सरकारों से कहा कि वे बताएं कि उन्होंने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे राज्यों में पराली जलाने से रोकने के लिए क्या कदम उठाए हैं.

पढ़ें- दिल्‍ली : प्रदूषण का स्‍तर बेहद खतरनाक, जानिये- क्‍या करें, क्‍या ना करें

हरित अधिकरण ने दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमेटी को निर्देश दिया था कि वह शहर के विभिन्न हिस्सों से वायु गुणवत्ता के नमूने एकत्रित करे और एक विश्लेषण प्रस्तुत करे जिसमें पीएम 2 . 5 और 10 सहित विभिन्न प्रदूषकों की विस्तृत जानकारी हो. अधिकरण ने तीखी टिप्पणी करते हुए दिल्ली के प्राधिकारियों को यह समझाने के लिए कहा था कि पूरे राष्ट्रीय राजधानी में उत्सर्जन करने वाली निर्माण एवं औद्योगिक गतिविधियां रोकने के लिए कदम क्यों नहीं उठाए गए.

एनजीटी अध्यक्ष न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार के नेतृत्व वाली एक पीठ ने बुधवार को कहा, 'आप निर्माण और औद्योगिक गतिविधियां एक महीने रोकने के लिए निर्देश जारी क्यों नहीं करते? आप किसका इंतजार कर रहे हैं? क्या अदालतें आपकी स्थानीय संरक्षक हैं? आप बच्चों के साथ क्या कर रहे हैं? वृद्ध व्यक्ति चल फिर नहीं पा रहे हैं'. अधिकरण ने कहा कि लोगों से कहा जा रहा है कि वे बाहर अधिक नहीं निकलें, क्या किसी प्रदूषण निगरानी इकाइयों ने घर के भीतर की वायु की गुणवत्ता की जांच की है?' पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के लिए पेश होने वाले अधिवक्ता नगींदर बेनीपाल ने आरोप लगाया कि दिल्ली में कई अवैध उद्योग संचालित हो रहे हैं जो प्रदूषण के प्रमुख स्रोत हैं.

ये भी पढ़ें- दिल्‍ली में वायु प्रदूषण असहनीय, रविवार तक बंद रहेंगे सभी स्‍कूल

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.