Breaking News
  • दिल्‍ली हिंसा पर कांग्रेस ने राष्‍ट्रपति को ज्ञापन सौंपा
  • सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह समेत कई नेता राष्‍ट्रपति से मिले
  • अखिलेश यादव सीतापुर के लिए निकले. जेल में बंद सपा नेता आजम खां व उनके परिवार से करेंगे मुलाकात

DU के एक कॉलेज में पुलवामा के शहीदों को श्रद्धांजलि देने से रोका गया, अधिकारियों ने दिए अजब-गजब तर्क

दिल्ली यूनिवर्सिटी के दिल्ली स्कूल ऑफ जर्नलिज्म में शुक्रवार यानी आज पुलवामा के शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए कैंपस में एक कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा था. लेकिन कॉलेज प्रशासन ने कार्यक्रम को बीच मे रोक दिया जिससे हंगामा हो गया.  

DU के एक कॉलेज में पुलवामा के शहीदों को श्रद्धांजलि देने से रोका गया, अधिकारियों ने दिए अजब-गजब तर्क
कार्यक्रम को बीच में रोकने से हंगामा

नई दिल्ली: दिल्ली यूनिवर्सिटी के दिल्ली स्कूल ऑफ जर्नलिज्म में शुक्रवार यानी आज पुलवामा (Pulwama) के शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए कैंपस में एक कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा था. लेकिन कॉलेज प्रशासन ने कार्यक्रम को बीच मे रोक दिया जिससे हंगामा हो गया. पुलवामा में शहीद जवानों को दिल्ली स्कूल ऑफ जर्नलिज्म के छात्र जिस समय श्रद्धांजलि दे रहे थे, तभी वहां की ओएसडी MM योगी ने आकर छात्रों को कार्यक्रम से रोका और कहा कि इस तरह कार्यक्रम नहीं कर सकते हैं.

छात्रों का आरोप है कि उन्होंने आज सुबह कॉलेज प्रशासन से कार्यक्रम करने के लिए अनुमति मांगी और कॉलेज प्रशासन से इस प्रोग्राम में शिरकत करने के लिए आग्रह भी किया. सुबह 11 बजे से 12.30 तक प्रोग्राम होना था. लेकिन कॉलेज प्रशासन ने प्रोग्राम करने पर ये कहकर रोक लगा दी कि कॉलेज के छात्र हंगामा कर रहे थे और इसकी अनुमति नहीं ली गई थी.

इस मामले में ZEE NEWS की टीम ने कॉलेज प्रशासन से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने कैमरे पर बात करने से मना कर दिया और फोन पर बताया कि छात्रों ने अनुमति नहीं ली. प्रॉक्टर ऑफिस से अनुमति लेनी चाहिए थी. छात्र हंगामा कर रहे थे, इसलिए उन्हें रोका गया.

ये भी देखें- 

कॉलेज के दूसरे प्रशासनिक अधिकारी का कहना है कि बिना इजाजत के कार्यक्रम में अगर कोई भीड़ में पत्थर मार दे तो क्या करेंगे. लॉ एंड ऑर्डर बिगड़ सकता है. इसलिए छात्रों को रोका गया. सवाल ये है कि देश के शहीदों को शांतिपूर्ण तरीके से श्रद्धांजलि देने के लिए रोका जाना कहां तक उचित है. क्या कॉलेज कैंपस में देश के शहीदों को याद नहीं किया जा सकता है.