close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ढेंकनाल लोकसभा सीट: क्या जारी रहेगा बीजेडी का विजयी रथ या कांग्रेस करेगी वापसी?

इस सीट का राजनीतिक इतिहास बताता है कि यहां पर ज्यादातर कांग्रेस और बीजेडी का कब्जा रहा है. हालांकि पिछले तीन चुनाव लगातार जीतकर बीजेडी ने इस क्षेत्र में अपनी पकड़ को काफी मजबूत कर दिया है. 

ढेंकनाल लोकसभा सीट: क्या जारी रहेगा बीजेडी का विजयी रथ या कांग्रेस करेगी वापसी?

नई दिल्ली: ओडिशा की ढेंकनाल सीट पर लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण के तहत वोट डाले गए. 2014 में इस सीट पर बीजेडी ने बड़ी जीत दर्ज की थी.  2014 में बीजेपी के तथागत सत्पथी चुनाव जीते थे. उन्होंने बीजेपी के उम्मीदवार को 1,37,340 वोटों के अंतर से हराया था. 

इस सीट का राजनीतिक इतिहास बताता है कि यहां पर ज्यादातर कांग्रेस और बीजेडी का कब्जा रहा है. हालांकि पिछले तीन चुनाव लगातार जीतकर बीजेडी ने इस क्षेत्र में अपनी पकड़ को काफी मजबूत कर दिया है. 

ढेंकनाल का राजनीतिक इतिहास
1952 में कांग्रेस निजंना जेना यहां से चुनाव जीते थे. 1957 में गणतंत्र परिषद के सुरेंद्र मोहंती यहां से चुनाव जीते. इसके बाद 1962 में कांग्रेस ने यह सीट जीत ली. 1967 में स्वतंत्र पार्टी ने इस सीट पर जीत दर्ज की. 1971 देवेंद्र सत्पथी यहां से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़े और उन्होंने जीत हासिल की. हालांकि 1977 का चुनाव वह भारतीय लोकतंत्र के टिकट पर लड़े लेकिन इस बार भी उन्होंने जीत हासिल की. 

अगले दो चुनाव 1980 और 1984 में इस सीट पर कांग्रेस ने जीत हासिल की. 1989 में इस सीट जनता दल ने जीत का परचम लहराया. 1991 के चुनाव में कांग्रेस यह सीट फिर से जीत ली और 1996 में भी पार्टी की जीत सिलसिला जारी रहा. 

1998 में कांग्रेस के हाथ से यह सीट फिर निकल गई. इस बार यहां से बीजेडी विजयी रही. 1999 के चुनाव में कांग्रेस ने इस सीट को फिर से जीत लिया. लेकिन इसके बाद बीजेडी ने इस सीट पर अपनी पकड़ बना ली.  2004, 2009 और 2014 में बीजेडी यहां से चुनाव जीतने में कामयाब रही.