कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद आतंकियों की भर्ती में भारी कमी, जानें क्या कहते हैं आंकड़े

5 अगस्त के बाद से अब तक केवल 14 युवाओं के आतंकवादी गिरोहों में शामिल होने की खबर है. 

कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद आतंकियों की भर्ती में भारी कमी, जानें क्या कहते हैं आंकड़े
फाइल फोटो

नई दिल्ली: कश्मीर (kashmir) घाटी में धारा 370 खत्म होने और केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद आतंकवादियों (Terrorists) के गिरोह में भर्ती होने वाले युवाओं की तादाद में बहुत कमी आई है. आम तौर पर हर महीने औसतन 8 स्थानीय युवा आतंकी गिरोहों में शामिल होते थे. लेकिन 5 अगस्त के बाद से अब तक केवल 14 युवाओं के आतंकवादी गिरोहों में शामिल होने की खबर है. यानि हर महीने लगभग 3 युवाओं ने आंतकवादी बनना मंज़ूर किया है.

खुफ़िया सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 2016 में बुरहान वानी के मारे जाने के बाद पाकिस्तान के पाले हुए आतंकवादियों के प्रचार के शिकार होने वाले युवाओं की तादाद में भारी इजाफा हुआ था. 

अधिकारी ने कहा कि इस साल 27 नवंबर तक पाकिस्तान ने 2835 बार युद्धविराम का उल्लंघन किया है. इसमें केवल नवंबर में ही 268 बार सीमा पार से गोलाबारी की गई है. पूरे साल में 158 आतंकवादियों को सुरक्षा बलों ने मारा है जबकि इसी दौरान 172 आतंकवादी वारदातें हुईं. सीमापार से गोलाबारी और कश्मीर में आतंकवाद विरोधी कार्रवाइयों में सेना के भी 38 जवान और अधिकारी अब तक वीरगति पा चुके हैं.