48 घंटे में जब्त किया गया 100 किलो सोना, जानें क्या है पूरा मामला

डीआरआई ने सबसे पहले पश्चिम बंगाल के सिलिगुड़ी से दो लोगों को पकड़ा. तलाशी में उनकी कार से 55 सोने के बिस्किट मिले थे, जिनका वज़न 55 किलो था.

48 घंटे में जब्त किया गया 100 किलो सोना, जानें क्या है पूरा मामला
डीआरआई ने चार अलग-अलग शहरों (चेन्नई, बैंगलुरु, मदुरई और इंदौर) में एयरपोर्ट पर कार्रवाई करते हुये 13 किलो सोना पकड़ा.

नई दिल्ली: राजस्व खुफिया निदेशालय (DRI) ने देशभर में कार्रवाई करते हुए करीब 32 करोड़ रुपये की कीमत का 100 किलो सोना जब्त किया है. इसके साथ ही डीआरआई ने अलग-अलग जगहों से सात सोना तस्करों को भी गिरफ्तार किया है, जिसमें एक आरोपी भूटान का नागरिक है. दरअसल, डीआरआई पिछले काफी समय से सोना तस्करों पर नजर रखे हुए थी. डीआरआई अफसरों को जानकारी मिल रही थी कि तस्कर पोरस बॉर्डर का फायदा उठा कर सोना तस्करी कर भारत ला रहे हैं. डीआरआई ने सबसे पहले पश्चिम बंगाल के सिलिगुड़ी से दो लोगों को पकड़ा. तलाशी में उनकी कार से 55 सोने के बिस्किट मिले थे, जिनका वज़न 55 किलो था.

डीआरआई के अनुसार, सोने को कार के अंदर ड्राइवर सीट के नीचे स्पेशल कैवेटी बना कर छिपा रखा था. सोना मिजोरम बॉर्डर के जरिये म्यांमार से तस्करी कर भारत लाया गया था. उसके बाद एक अन्य कार्रवाई करते हुए डीआरआई ने नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 34 किलो सोना बरामद किया. साथ ही तस्करी में लिप्त भूटान के नागरिक समेत 3 लोगों को गिरफ्तार किया. बरामद सोना भी भारत में म्यांमार से सड़क के रास्ते तस्करी कर लाया गया था. यह सोना चीन और स्विस मार्किंग का था. 

इसके बाद डीआरआई ने चार अलग-अलग शहरों (चेन्नई, बैंगलुरु, मदुरई और इंदौर) में एयरपोर्ट पर कार्रवाई करते हुये 13 किलो सोना पकड़ा. ये सोना भारत में कोलंबो और सिंगापुर से तस्करी कर लाया गया था. सोना हवाईजहाज की सीट में रखी जाने वाली लाईफ जैकेट और सीट के नीचे खाली जगह में छिपा कर लाया गया था. DRI ने कार्रवाई करते हुए 2 लोगों को गिरफ्तार किया. साथ ही वह इस मामले में एयरलाइन कर्मचारी की भूमिका की जांच कर रही है. 

डीआरआई पिछले काफी समय से भारत में सोना तस्करी कर लाने वालों पर लगातार कार्रवाई कर रही है. गौरतलब है कि सबसे ज्यादा सोना दुबई, हांगकांग, सिंगापुर के जरिये भारत में लाया जाता है. वहीं, पिछले कुछ समय में डीआरआई ने श्रीलंका से समुद्र के रास्ते भी सोना तस्करी का नया रूट पकड़ा है. समुद्र के जरिये सबसे पहले सोना तमिलनाडु लाया जाता है और फिर सड़क या रेल के रास्ते भारत के अलग अलग शहरों में बेचा जाता है. भारत में त्योहारों की वजह से सोने की काफी मांग है और तस्कर इस मौके का फायदा उठाने की कोशिश में लगे हुये है.