DNA ANALYSIS: कोरोना के खिलाफ 21 दिनों की 'महाभारत', 'सामाजिक दूरी' ही एक विकल्प

कोरोना वायरस से हम ऐसा युद्ध लड़ रहे हैं, जो युद्ध हथियारों से नहीं, नई बल्कि नई आदतों और अनुशासन से जीता जाएगा.

DNA ANALYSIS: कोरोना के खिलाफ 21 दिनों की 'महाभारत', 'सामाजिक दूरी' ही एक विकल्प

आज तीन हफ्ते के इस Lock Down के पहले दिन. हम उम्मीद करते हैं कि आप स्वस्थ होंगे सुरक्षित होंगे और अपने दृढ़ संकल्प पर कायम होंगे. ये Lock Down है एतिहासिक है और इस Lock Down में भारत के 135 करोड़ लोग ही नहीं दुनिया के 230 करोड़ लोग अपने घरों में बंद हैं. अब से लेकर 21 दिनों तक हम हर रोज़ आपके साथ एक विशेष संवाद करेंगे. आपका हाल-चाल पूछेंगे, आपको एक दूसरे की खबरें बताएंगे और Corona Virus पर एक-एक Update आप तक पहुंचाएंगे. आपकी तरह अपने परिवार के साथ घर बैठने का विकल्प हमारे सामने भी था लेकिन एक देश में और एक समाज में, सबको अपनी-अपनी भूमिकाएं निभानी होती हैं.

Zee Media में ढाई हज़ार लोग काम करते हैं और उन सबके परिवार भी यही चाहते हैं कि ये सारे लोग घर से ही काम करें. लेकिन ये विकल्प हमारे पास नहीं हैं. और इसलिए हमारे Reporters, Producers और पत्रकार लगातार दफ्तर आ रहे हैं, News Room आ रहे हैं ताकि इस संकट की घड़ी में भी हम आप तक लगातार बिना रुके खबरें पहुंचाते रहें और हम आपके काम आते रहें. हमारे लिए यही राष्ट्र धर्म है और यही देश सेवा है.

इसलिए आप सबसे गुजारिश है कि आप उन तमाम लोगों की जिनमें डॉक्टर, Nurse, मीडिया के लोग, पुलिस कर्मी और सरकारी कर्मचारी शामिल है उनकी ये कुर्बानी बेकार ना जाने दें और घर अपने घर पर ही रहें. हम फिर से कहना चाहते हैं कि आप घर पर ही रहें.

कोरोना वायरस से हम ऐसा युद्ध लड़ रहे हैं, जो युद्ध हथियारों से नहीं, नई बल्कि नई आदतों और अनुशासन से जीता जाएगा. क्योंकि ये ऐसा युद्ध है, जिस युद्ध के सैनिक हमारे वैज्ञानिक हैं. प्रयोगशालाएं युद्ध का मैदान हैं और हथियार वो दवा है, जिसे कोरोना को खत्म करने के लिए तैयार किया जाना है. जब तब ऐसा नहीं होता, तब तक नई आदतें और अनुशासन का अस्त्र ही हमारे काम आएगा. चाल चलन बदल रहा है तरीके बदल रहे हैं. हो सकता है कि Hand Shake की दोबार कभी वापसी ना हो और एक दूसरे को दूर से नमस्कार करना ही नई प्रथा बन जाए.

अब आप नए दौर के भारत की कुछ नई तस्वीरें देखिए. ये आज की कैबिनेट मीटिंग की तस्वीर है. प्रधानमंत्री और दूसरे मंत्री, सभी एक दूसरे से एक मीटर की दूरी पर बैठे हैं. प्रधानमंत्री ने कल अपने संबोधन में इसी बात पर ज़ोर दिया था कि कोरोना से लड़ने का सिर्फ एक ही तरीका है. वो तरीका है Social Distancing. अब प्रधानमंत्री खुद उसका पालन भी कर रहे हैं. जब देश का प्रधानमंत्री इस तरह का संदेश देता है. तो कैसे उसका असर ज़मीनी स्तर तक होता है. इसे आपको दूसरी तस्वीर में दिखाते हैं.

ऐसी कई तस्वीरें आज देश भर से आईं, जिनमें किराना की दुकानों, सब्ज़ी, फल और दूध की दुकानों के बाहर लोग दूरी बना कर खड़े थे. दुकान के बाहर एक-एक मीटर की दूरी पर Marking की गई थी, जिससे लोग एक दूसरे के संपर्क में ना आएं. ऐसी तस्वीरें शायद ही आपने कभी देखी हों. ये तस्वीरें भारत के लिए नई हैं. भारत वो देश है जहां लोग लाइन में भी शांति से खड़े नहीं होना चाहते. दूर दूर खड़े रहना तो बड़ी बात है.

आपको दुनिया की तस्वीरें भी दिखाते हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति Donald Trump की प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी अब social distancing का पालन हो रहा है. रिपोर्टर दूर दूर बैठाए जा रहे हैं. अमेरिका से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक दुनिया भर में social distancing पर ही ज़ोर है. क्योंकि इसके अलावा अभी तक कोरोना को कोई तोड़ नहीं है. कोरोना से दूरी तभी बनाई जा सकती है, जब हम दूर दूर रहें और अलग रहे. इसलिए दुनिया भर के देश खुद को Lockdown कर रहे हैं

ये मुश्किल वक्त है. ये एक तरह से युद्ध है. लेकिन हमारे लिए अपना जीवन दांव पर लगाने वाले डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ पूरे संकल्प के साथ इस युद्ध को लड़ रहे हैं. उनके उत्साह में कोई कमी नहीं है. इससे जुड़ा एक वीडियो आपको देखना चाहिए. इस वीडियो में इस मुश्किल भरे दौर में बी कुछ डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ गाना गाकर एक दूसरे का हौसला बढ़ा रहे हैं.

इस वक्त दुनिया में 230 करोड़ से भी ज़्यादा लोग अपने घरों में कैद हैं. 10 देश कर्फ्यू लगा चुके हैं, तो 35 देश खुद को Lockdown कर चुके हैं. दुनिया का सबसे बड़ा Lockdown भारत में है, जहां 135 करोड़ लोगों को 21 दिन के लिए घरों में रहने को कहा गया है. आज इस Lockdown का पहला दिन था. भारत में कोरोना संक्रमण के मामले 600 के पार हो चुके हैं और 10 लोगों की जानें जा चुकी हैं. Lockdown का पहला दिन कैसा रहा. आपको ये ग्राउंड रिपोर्ट दिखा देते हैं. फिर आपको बताएंगे कि कोरोना से युद्ध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज महाभारत का क्या किस्सा सुनाया?

देशभर में ज्यादातर जगहों पर लोग लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे थे. और जो लोग बाहर निकल भी रहे थे. वो अपने जरूरी काम निपटा रहे थे. ताकि अगले 21 दिन वो कोरोना के खिलाफ इस जंग को घर में रहकर लड़ने के लिए पूरी तरह तैयार हो जाएं. लॉकडाउन का पालन करना लोगों की जिम्मेदारी है. और पुलिस की जिम्मेदारी है कि वो ये सुनिश्चित करे कि लॉकडाउन के नियम टूटने ना पाएं. और जो लोग अब भी कोरोना वायरस के इस खतरे को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. उन्हें लॉकडाउन का पाठ पढ़ाएं. जरूरत पड़े तो सोशल डिस्टेसिंग का प्रैक्टिकल भी करवाए. लेकिन जिस तरह कोरोना वायरस अमीर और गरीब आम और खास को कोई छूट नहीं देता उसी तरह लॉकडाउन से भी किसी को छूट नहीं है. फिर चाहे वो आम जनता हो या बॉलीवुड सेलिब्रिटीज़.

जिनके लिए ये वक्त अपनी बिजी लाइफस्टाइल को 21 दिनों के लिए टाटा-बाय-बाय कहने का है. वो अब घर पर रहकर सिल्वर स्क्रीन के बजाय सोशल मीडिया पर अपनी एक्टिंग के हुनर दिखा रहे हैं. और सोशल डिस्टेंसिंग का मैसेज दे रहे हैं. अगले 21 दिन देश के लिए सिर्फ कोरोना को हराने के 21 दिन नहीं है. ये 21 दिन देश के संयम और अनुशासन की परीक्षा भी लेंगे. ये 21 दिन तय करेंगे कि एक देश के तौर पर एक समाज के तौर पर हम 130 करोड़ भारतीय कितने मजबूत हैं. और इस वक्त देश के पास कमजोर पड़ने का कोई विकल्प ही नहीं है.

आज दिन भर लोग अपनी तस्वीरों और Videos के जरिये घर पर रहने के Unique अनुभव सोशल मीडिया पर शेयर करते रहे. जो नौकरीपेशा लोग Work From Home कर रहे हैं. वो अपने अनुभव बताते रहे हैं. कोई वक्त बिताने के लिए योग कर रहा है. बहुत सारे लोग घर के कामकाज में हाथ बंटा रहे हैं. कोई अपने बच्चों के साथ खेल रहा है. कोई फोटोग्राफी का शौक पूरा कर रहा है. कोई गिटार बजाकर वक्त बिता रहा है. तो कोई शतरंज खेल रहा है. हमारे पास कई ऐसे Videos भी आए हैं. जिसमें लोग Social Distancing का पालन करते हुए बेघर और गरीब लोगों की मदद कर रहे हैं. सही मायने में तो आज Lockdown का पहला दिन Excitement में निकल गया...लोग वो सब चीजें करते रहे जिन्हें करने के लिए उनके पास वक्त नहीं था.

DNA वीडियो:

 

लेकिन जैसे जैसे दिन बीतेंगे, लोगों में बेचैनी बढ़ेगी. आप घर पर समय बिताने के लिए नई-नई तरकीबें ढूंढेंगे. ऐसे में आपको शुक्र माना चाहिए कि ये सबकुछ इंटरनेट के युग में हो रहा है. जब आपके पास सोशल मीडिया है जिसके जरिये आप अपने दोस्तों के संपर्क में रह सकते हैं. आपके पास केबल-DTH है. जिनपर आप अपने मनपसंद धारावाहिक देख सकते हैं. अपना मनपसंद न्यूज़ शो DNA देख सकते हैं. सोचिये अगर आज ये सब ना होता तो क्या होता.

तो घर पर रहकर आप क्या कर रहे हैं..और घर पर रहकर क्या करना चाहिए. इसको लेकर भी आप सुझाव दे सकते हैं. अपने वीडियो बनाइये @ZeeNewsHindi को टैग करते हुए ट्वीट कीजिए. आप अपने Videos हमें WhatsApp भी कर सकते हैं. हमारा WhatsApp नंबर है- 8588806000. 

जो लोग इस संकटकाल में भी अनुशासन का पालन नहीं कर रहे हैं, वो एक तरह से देश के दुश्मन ही कहे जाएंगे. ऐसे लोगों से Lockdown का पालन करवाना कितनी बड़ी चुनौती है. पीएम मोदी ने 21 दिन के Lockdown की घोषणा करते हुए देश के हाथ जोड़कर नियमों का पालन करके Corona Warriors बनने का आग्रह किया था. आज पीएम मोदी ने एक वीडियो Tweet करके विश्वास जताया है कि देश के बच्चे. इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि लोग अपने घरों में रहेंगे और Lockdown के नियमों का पालन करेंगे.