Breaking News
  • गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर की जांच होगी, गोविंदनगर इंस्पेक्टर अनुराग मिश्रा को विवेचक बनाया गया
  • मालाबार में भारत समेत 4 देशों का नौसैनिक युद्धाभ्यास, ऑस्ट्रेलिया भी हो सकता है शामिल
  • विकास के साथियों को शरण देने वाले 2 लोग गिरफ्तार, चौबेपुर पुलिस ने पकड़ा

DNA ANALYSIS: टिकटॉक बैन होने के बाद अब क्या करेंगे TikTokers?

जिन लोगों ने टिकटॉक के जरिए अपनी पहचान बनाई, स्टारडम हासिल किया, उन्हें टिकटॉक बैन होने पर दुख तो हुआ है. लेकिन उनका मानना है कि एक ऐप के बैन हो जाने से उनका टैलेंट खत्म नहीं हो जाएगा. 

DNA ANALYSIS: टिकटॉक बैन होने के बाद अब क्या करेंगे TikTokers?

नई दिल्ली: भारत सरकार ने चीन के जिन ऐप्स को बैन किया है, उसमें सबसे ज्यादा चर्चा टिकटॉक की हो रही है. भारत में इस ऐप के 20 करोड़ यूजर्स हैं. जिनके लिए ये खबर किसी झटके से कम नहीं है. हो सकता है कि आपके परिवार में भी कोई TikToker हो. ऐसे में सबके मन में ये सवाल उठ रहा होगा कि अब उन टिकटॉक स्टार्स का क्या होगा जिन्होंने इस प्लेटफॉर्म पर लोकप्रियता हासिल की थी. 

हमने ऐसे ही कुछ टिकटॉक स्टार्स से बातचीत की है. अगर आप ये सोच रहे हैं कि टिकटॉक बैन होने के बाद वो घर पर बैठ गए हैं, तो आपको ये रिपोर्ट जरूर देखनी चाहिए.

जाहिर सी बात है जिन लोगों ने टिकटॉक के जरिए अपनी पहचान बनाई, स्टारडम हासिल किया, उन्हें टिकटॉक बैन होने पर दुख तो हुआ है. लेकिन उनका मानना है कि एक ऐप के बैन हो जाने से उनका टैलेंट खत्म नहीं हो जाएगा. एक चीनी ऐप बंद होगा तो ऐसे कई ऐप आएंगे जिनपर वो अपना टैलेंट दिखा पाएंगे. वैसे भी कोई ऐप देश से बढ़कर थोड़े ही हो सकता है. 

टिकटॉक के विकल्प के तौर पर भारतीय ऐप चिंगारी तेजी से लोकप्रिय हो रहा है. इस ऐप को अबतक 30 लाख लोगों ने डाउनलोड कर लिया है. ये ऐप यूजर्स को वीडियो डाउनलोड और अपलोड करने, दोस्तों के साथ चैट करने, नए लोगों के साथ बातचीत करने और कंटेंट शेयर करने की सुविधा देता है. ये ऐप हिंदी, अंग्रेजी के अलावा गुजराती, मराठी, कन्नड समेत कई अन्य भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है. चिंगारी ऐप, वीडियो वायरल होने के आधार पर यूजर्स को भुगतान भी करता है.

ये भी पढ़ें- DNA ANALYSIS: चीनी सामान के बहिष्कार को लेकर क्या है जनता का मूड?

कुल मिलाकर ये वो प्रतिभावान लोग हैं जिनकी कला को चीन के ऐप्स की जरूरत नहीं है. मेड इन चाइना मंच की जगह इन्हें मेड इन इंडिया प्लेटफॉर्म की जरूरत है. अब से पहले इस थिएटर का मालिक चीन था. लेकिन अब कलाकार भी भारत के होंगे और थिएटर भी भारत का होगा. टिकटॉक जैसे प्लेटफॉर्म्स को जवाब देने के लिए जल्द ही एक मेड इन इंडिया प्लेटफॉर्म आने वाला है. जिसके बारे में हम आपको जल्द ही बताएंगे. ये पूरे भारत के लिए एक बहुत बड़ा सरप्राइज है. ये स्वदेशी प्लेटफॉर्म जनता का, जनता द्वारा और जनता के लिए एक सुनहरा अवसर होगा.