close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

...तो अब ममता बनर्जी को कुलगाम में मजदूरों पर हुए आतंकी हमले का सबूत चाहिए?

 सर्जिकल स्ट्राइक की तो सबूत चाहिये, एयर स्ट्राइक की तो सबूत चाहिये. अब कश्मीर में आतंकियों ने 5 मजदूरों को मार डाला तो इस पर भी सबूत चाहिये कि वो आतंकी थे भी या नहीं.

...तो अब ममता बनर्जी को कुलगाम में मजदूरों पर हुए आतंकी हमले का सबूत चाहिए?
सबूत गैंग फिर एक्टिव हो गया है.

नई दिल्ली: सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical strike) की तो सबूत चाहिये, एयर स्ट्राइक (Air strike) की तो सबूत चाहिये. अब कश्मीर में आतंकियों ने 5 मजदूरों को मार डाला तो इस पर भी सबूत चाहिये कि वो आतंकी थे भी या नहीं. सबूत गैंग (Saboot Gang) फिर एक्टिव हो गया है. पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने कुलगाम में 5 मजदूरों को मारने वालों के आतंकी होने पर ही शक़ जता दिया है. इसे सुनियोजित हत्या बताया है और जांच की मांग की है. ममता ने दो दिन में एक बार आतंकियों को आतंकी नहीं बोला. सीधे तौर पर सबूत शब्द भी नहीं बोला लेकिन उनका बोलने का पूरा अंदाज़ हर किसी की समझ में आ रहा है. 

ममता ने मजदूरों की हत्या पर जांच की मांग उठाई है. ममता ने कहा कि बंगाल के मजदूरों की हत्या सुनियोजित थी. कश्मीर में केंद्र का शासन, फिर हत्या कैसे. दरअसल, कुलगाम में बीते मंगलवार को 5 मजदूरों की हत्या हुई थी. पांचों मजदूर मुर्शिदाबाद (प. बंगाल) के रहने वाले थे. मजदूरों की हत्या के पीछे हिज़्बुल मुजाहिदीन पर शक़ है. बीजेपी ने पूछा- सबूत गैंग की सदस्य हैं क्या ममता? ममता बनर्जी ने पुलवामा हमले पर भी सवाल उठाए थे. 

जम्मू-कश्मीर में 370 हटने के बाद से गैर कश्मीरी आतंकी निशाने पर है. 5 अगस्त के बाद से 11 गैर कश्मीरियों की हत्या की जा चुकी है. कुलगाम में मारे गये बंगाल के पांचों मजदूर मुस्लिम थे. कुलगाम में कंस्ट्रक्शन साइट पर आतंकी हमला हुआ था. ममता ने बयान में एक बार भी आतंकी शब्द नहीं बोला. आतंकियों ने 6 मजदूरों को मारी गोली, 1 की जान बची. पांचों मजदूर मुस्लिम थे और जल्द बंगाल लौटने वाले थे. 

बीजेपी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने ममता पर निशाना साधते हुए कहा कि क्या ममता बनर्जी सबूत गैंग की सदस्य हो गई हैं? इस मसले पर ममता बनर्जी को सियासत नहीं करना चाहिए. पश्चिम बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वो (ममता बनर्जी) अपने बंगाल को संभाल लें यहां हर टीएमसी ऑफिस में बम विस्फोट हो रहे हैं. यहां पिछले डेढ़ साल में 200 से ज़्यादा लोग मारे गए वो बंगाली नहीं है क्या? 

ममता के लिये ये सबूत नहीं?
राज्य पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि कनलीवन बिजबिहाड़ा में गत सुबह जिस आतंकी का गोलियों से छलनी शव मिला है, वह कुपवाड़ा का रहने वाला एजाज अहमद मलिक है. दार्दसुन कुपवाड़ा के वर्ष 2018 से हिजबुल मुजाहिदीन का सक्रिय आतंकी था. जांच में पता चला है कि वह गत मंगलवार रात को कनलीवन में हुई ट्रक चालक की हत्या में भी शामिल था. यह वारदात हिज्ब ने अंजाम दी है.

 

'सबूत गैंग' को सिर्फ सबूत चाहिये!
1. राहुल गांधी, ने फरवरी 2019 में कहा था कि एयर स्ट्राइक पर सिर्फ़ विपक्षी दल नहीं, शहीदों के परिवार भी जवाब मांग रहे हैं.
2. ममता बनर्जी ने फरवरी 2019 में कहा था कि सरकार को पुलवामा अटैक का पहले से पता था, उन्हें पता था कि ये होगा.
3. अखिलेश यादव ने भी फरवरी 2019 एक ब्यान में कहा था कि पुलवामा हमले की जांच हो, सरकार जवाब दे खुफिया तंत्र फेल क्यों हुआ?
4. नेशनल कॉन्फ्रेंस अध्यक्ष, फ़ारुक़ अब्दुल्ला ने मार्च, 2019 में कहा था कि चुनाव के लिये एयर स्ट्राइक कराई, गनीमत है पायलट बच गया और लौट आया.
5. कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने मार्च 2019 में अपने भाषण में कहा था कि 300 आतंकी मारे. हां या नहीं? या फिर पेड़ उखाड़ने गए थे? दिखता तो ऐसा ही है.