चीन के साथ सीमा मुद्दों पर चल रही बातचीत के बीच आर्मी चीफ ने कही ये बड़ी बात
X

चीन के साथ सीमा मुद्दों पर चल रही बातचीत के बीच आर्मी चीफ ने कही ये बड़ी बात

जनरल नरवणे ने कहा कि चीन के साथ बातचीत राजनीतिक स्तर पर, राजनयिक स्तर पर और सैन्य स्तर पर हो रही है. सेना भविष्य के हालातों को लेकर भी सतर्क है. 

 

 चीन के साथ सीमा मुद्दों पर चल रही बातचीत के बीच आर्मी चीफ ने कही ये बड़ी बात

नई दिल्ली: सेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे ने गुरुवार को कहा कि भारत को सीमा मुद्दों को सुलझाने के लिए चीन के साथ होने वाली हर दौर की बातचीत में अनुकूल परिणाम की उम्मीद नहीं करनी चाहिए. जनरल नरवणे ने कहा, ‘टकराव वाले के 4-5 पॉइंट थे और हमने एक को छोड़कर सभी को हल कर लिया है. मुझे यकीन है कि वार्ता के कुछ और दौर में हम इन मुद्दों को भी हल कर सकेंगे.’

'एक साल की तुलना में स्थिति बेहतर'

इस महीने की शुरुआत में, भारत और चीन 13वें दौर की सैन्य वार्ता के दौरान पूर्वी लद्दाख में टकराव वाले बाकी बिंदुओं में 17 महीने के गतिरोध को हल करने में कोई प्रगति करने में असफल रहे. यहां एक रक्षा सम्मेलन में सेना प्रमुख ने कहा कि चीन के साथ पूर्वी लद्दाख सीमा पर स्थिति लगभग एक साल पहले की तुलना में अब बेहतर और अधिक स्थिर है. उन्होंने कहा, ‘भारत और चीन के बीच कई दौर की बातचीत हुई है और उन वार्ताओं के परिणामस्वरूप, हम काफी हद तक सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया के संबंध में सहमति बनाने में सफल रहे हैं.’

हर स्तर पर हो रही बातचीत

सेना प्रमुख ने कहा, ‘मैं जो कहना चाहता हूं, वह यह है कि हमें हर दौर की बातचीत में अनुकूल परिणाम की उम्मीद नहीं करनी चाहिए. हमेशा ही कुछ बातों पर सहमति बनती है तो कुछ पर मतभेद होते हैं.’ उन्होंने कहा, ‘जब तक हम बात करते रहेंगे, हम उन मतभेदों को दूर करने में सक्षम होंगे और एक-दूसरे करीब आएंगे और सभी मुद्दों को हल करेंगे.’ जनरल नरवणे ने कहा कि चीन के साथ बातचीत राजनीतिक स्तर पर, राजनयिक स्तर पर और सैन्य स्तर पर हो रही है. उन्होंने कहा, ‘मुझे यकीन है कि हम एक संतोषजनक संकल्प के साथ आने में सक्षम होंगे और जब मैं संतोषजनक कहता हूं, तो यह दोनों पक्षों के लिए संतोषजनक होना चाहिए और मुझे विश्वास है कि ऐसा जल्द ही होगा.’

यह भी पढ़ें: टीम इंडिया में कौन सा प्लेयर है सबसे फेवरेट, शोएब अख्तर ने दिया ये जवाब

हर हालात से निपटने की तैयारी

जनरल नरवणे ने कहा कि भारतीय सेना एक पल के लिए भी अपनी निगरानी और सुरक्षा को कम नहीं कर रही है. भविष्य के हालातों को लेकर सतर्क है. उन्होंने कहा, ‘हमेशा यह उम्मीद है कि सभी मतभेदों को बातचीत और चर्चा के जरिए हल किया जा सकता है, लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है तो हम हमेशा अपनी सीमाओं की रक्षा करने और अपनी क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करने के लिए तैयार हैं.’

LIVE TV
 

Trending news