वंशवाद कांग्रेस की संस्कृति, पॉलिटिक्स ऑफ परफॉर्मेंस में है हमारा यकीन: बीजेपी

वंशवाद कांग्रेस की संस्कृति, पॉलिटिक्स ऑफ परफॉर्मेंस में है हमारा यकीन: बीजेपी
पीयूष गोयल. (तस्वीर साभार: ANI)

बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक के दूसरे दिन केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कांग्रेस और पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर जोरदार हमला किया. बैठक में अमित शाह की ओर से कही गई बातों की ब्रीफिंग करते हुए पीयूष गोयल ने कहा कि वंशवाद कांग्रेस की संस्कृति है. वहीं बीजेपी पॉलिटिक्स ऑफ परफॉर्मेंस के एजेंडे पर काम करती है. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी तुष्टीकरण की राजनीति करते हैं, वे विदेशों में जाकर भारत की गरिमा को नकार रहे हैं. वहीं बीजेपी के राज में एक भी भ्रष्टाचार के मामले सामने नहीं आए. नरेंद्र मोदी की सरकार लगातार गरीबों के हितों में काम कर रही है. भारत का हर नागरिक चाहता है कि देश गंदगी, गरीबी, तुष्टीकरण की राजनीति आदि से मुक्त हो. उन्होंने कहा कि बीजेपी दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बन चुकी है. अमित शाह ने अपने भाषण में न्यू-इंडिया के सपने को पूरा करने के लिए सभी कार्यकर्ताओं को इससे जुड़ने की अपील की है.

पीयूष गोयल ने 'सुभाग्य योजना' का जिक्र करते हुए कहा कि पार्टी बैठक में तय हुआ है कि मोदी सरकार मई 2018 तक देश हर गांव में बिजली पहुंचा देगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी सोमवार को ही 'सुभाग्य योजना' को लांच कर सकते हैं. इस योजना परर केंद्र सरकार 17,000 करोड़ रुपए खर्च कर सकती है। इस दौरान पीयूष गोयल ने केंद्र सरकार की ओर से शुरू की गई लाभकारी योजनाओं और उसकी सफलता का भी जिक्र किया.

केरल में पदयात्रा करेगी बीजेपी
पीयूष गोयल ने कहा कि कार्यकारणी की बैठक में पश्चिम बंगाल और केरल की हिंसा की निंदा की गई. बीजेपी के कार्यकर्ता हिंसा से नहीं डरेंगे. हिंसा के प्रति विरोध जताने के लिए बीजेपी कार्यकर्ता केरल में 3 से 17 अक्टूबर तक पद यात्रा करेगी.

ये भी पढ़ें: BJP की राष्ट्रीय कार्यकारणी दूसरा दिन: 'मिशन 2019' की प्लानिंग करेंगे पीएम नरेंद्र मोदी

मालूम हो कि सोमवार को ही बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अर्थव्यवस्था की स्थिति और अपनी सरकार के आर्थिक एवं राजनीतिक एजेंडे का खाका पेश कर सकते हैं, जिसके इर्द गिर्द पार्टी अगले लोकसभा चुनाव की रणनीति का तानाबाना बुनेगी. कार्यकारणी की इस बैठक को 2019 के लोकसभा चुनाव के लिहाज से अहम माना जा रहा है. लोकसभा चुनाव के अभी डेढ़ साल शेष बचे हैं, लेकिन बीजेपी कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है लिहाजा उसने सभी सांसदों, अपने शासन वालों राज्यों के मुख्यमंत्रियों, सभी विधायकों एवं पार्षदों और प्रदेश इकाइयों के अध्यक्षों समेत 2000 नेताओं को इसमें शामिल होने के लिये बुलाया है. बीजेपी सूत्रों ने बताया कि 25 सितंबर को बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संबोधन खास होगा जो कुछ राज्यों में आसन्न चुनाव और 2019 के लोकसभा चुनाव की दिशा तय करेंगे.