Breaking News
  • #ImmunityConclaveOnZee : केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाइक ने कहा कि कोरोना की दवा पर शोध जारी है.
  • #ImmunityConclaveOnZee : श्रीपद नाइक ने कहा - 6-7 सप्ताह में शोध पूरा हो जाएगा.
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, '8 बजे नाश्ता, 12 बजे दोपहर का खाना, शाम को 8 बजे तक खाना खा लें'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, 'भगवान ने हमें इंसान बनाकर दुनिया की सबसे बड़ी दौलत दी है'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, '6 घंटे की नींद जरूर पूरी करें और उससे ज्यादा सोएं भी नहीं'

असम पब्लिक सर्विस कमीशन के पूर्व चेयरमैन के खिलाफ ED ने उठाया ये बड़ा कदम, जानें क्या है पूरा मामला

ED ने असम पब्लिक सर्विस कमीशन के पूर्व चेयरमैन राकेश कुमार पॉल की 1.30 करोड़ की संपत्ति अटैच की है. 

असम पब्लिक सर्विस कमीशन के पूर्व चेयरमैन के खिलाफ ED ने उठाया ये बड़ा कदम, जानें क्या है पूरा मामला

नई दिल्ली: ED ने असम पब्लिक सर्विस कमीशन के पूर्व चेयरमैन राकेश कुमार पॉल की 1.30 करोड़ की संपत्ति अटैच की है. राकेश कुमार पॉल की अटैच की गई संपत्तियों में दो फ्लैट, एक कर्मिशयल बिल्डिंग और 10 लाख रुपए जो घर से मिले थे, वो शामिल है. 

राकेश कुमार पॉल 2012-16 तक असम पब्लिक सर्विस  कमीशन के चेयरमैन थे. आरोप है कि राकेश कुमार पॉल ने इस दौरान रिश्वत लेकर पब्लिक सर्विस कमीशन के जरिए सरकारी नौकरी में भार्तियां कीं.

इस केस का खुलासा तब हुआ जब नाबा कातां पातिर नाम के एक आरोपी ने एक महिला डॉक्टर से 10 लाख रुपये लेकर सरकारी नौकरी दिलाने का भरोसा दिलाया. महिला डॉक्टर ने इसकी शिकायत असम पुलिस से की और इस पूरे नेटवर्क का खुलासा हुआ.

इस पूरे मामले में राकेश कुमार पॉल पर आरोप है कि उसने करीब 49 लोगों को पैसे लेकर सरकारी नौकरी पर रखा था. असम पुलिस ने इसमें राकेश कुमार पॉल समेत 67 लोगों को गिरफ्तार भी किया था और 74 लोगों के खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल की है.

ED ने असम पुलिस के मामले के बाद मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज जांच शुरू की थी. हालांकि इस मामले में गुवाहाटी हाइकोर्ट के आदेश के बाद CBI ने भी जुलाई 2019 में राकेश कुमार पॉल, पत्नी सुनंदा पॉल और मां हीरा रानी पॉल के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था.

ED की जांच में पता चला कि आरोपी राकेश कुमार पॉल ने रिश्वत के बदले नौकरी के इस खेल में कमाये पैसों से असम में काफी सारी संपति बना ली थी जो कि खुद के और परिवार के नाम पर थी.

जांच में ये भी पता चला कि संपत्ति जो खरीदी गई थी वो काफी कम कीमत पर ली गई थी जबकि कागजातों में उनको काफी महंगा दिखाया. ED ने अब इस मामले में कार्रवाई करते हुए 1.30 करोड़ की संपत्ति अटैच की है.

ये भी देखें: