UPA में हुए विमानन घोटाले की आंच पूर्व मंत्री प्रफुल्ल पटेल तक पहुंची, ED करेगी पूछताछ

मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली संप्रग सरकार में हुए करोड़ों रुपये के कथित विमानन घोटाले के सिलसिले में किसी बड़े नेता के खिलाफ यह पहली कार्रवाई है.

UPA में हुए विमानन घोटाले की आंच पूर्व मंत्री प्रफुल्ल पटेल तक पहुंची, ED करेगी पूछताछ
एजेंसी ने हाल ही में दीपक तलवार को नामजद करते हुए आरोपपत्र दाखिल किया है. उसमें कहा गया है कि तलवार लगातार पटेल के संपर्क में था.

नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय ने यूपीए शासनकाल में सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया में हुए करोड़ों रुपये के कथित घोटाले से जुड़े मनी लॉड्रिंग मामले की जांच के सिलसिले में एनसीपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व नागर विमानन मंत्री प्रफुल्ल पटेल को अगले सप्ताह एजेंसी के समक्ष उपस्थित होने का समन भेजा है. अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि राज्यसभा सदस्य पटेल से छह जून को जांच अधिकारियों के समक्ष उपस्थित होने को कहा गया है.

दरअसल, कॉर्पोरेट लॉबिस्ट दीपक तलवार द्वारा प्राइवेट एयरलाइन्स को फायदा पहुंचाने के लिए एयर इंडिया के मुनाफे वाले रुट को प्राइवेट एयरलाइन को दिलाने के लिए तत्कालीन उड्डयन मंत्री प्रफुल्ल पटेल से बात की थी. दीपक तलवार के खिलाफ पेश चार्जशीट में इस बात का जिक्र है कि दीपक तलवार प्रफुल्ल पटेल के काफी करीबी थे. इसमें बताया गया कि कैसे प्राइवेट एयरलाइन्स से दीपक तलवार ने फायदा उठाया था और उनको ये रुट दिलाने के लिए प्राइवेट एयरलाइन्स से इसके एवज़ में मोटा फायदा उठाया था.

 

वहीं, एनसीपी नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रफुल्ल पटेल ने शनिवार को कहा कि उन्हें प्रवर्तन निदेशालय के साथ सहयोग करके खुशी होगी ताकि एजेंसी विमानन इंडस्ट्री की ‘‘जटिलताओं’’ को समझ सके. ईडी ने इससे पहले शनिवार को पटेल को समन जारी कर छह जून को जांच अधिकारी के समक्ष उपस्थित होने को कहा है. पटेल संप्रग सरकार में नागर विमानन मंत्री थे. पटेल ने फोन पर पीटीआई से कहा, ‘‘मुझे ईडी के साथ सहयोग करके खुशी होगी ताकि वे लोग विमानन इंडस्ट्री की जटिलताओं को समझ सकें.’’ 

मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली संप्रग सरकार में हुए करोड़ों रुपये के कथित विमानन घोटाले के सिलसिले में किसी बड़े नेता के खिलाफ यह पहली कार्रवाई है. अधिकारिक सूत्रों का कहना है कि विमानन लॉबिस्ट दीपक तलवार की गिरफ्तारी के बाद हुए कुछ खुलासों और एजेंसी द्वारा जुटाए गए सबूतों के मद्देनजर पटेल से सवाल-जवाब किया जाना है. एजेंसी ने हाल ही में दीपक तलवार को नामजद करते हुए आरोपपत्र दाखिल किया है. उसमें कहा गया है कि तलवार लगातार पटेल के संपर्क में था.