चुनाव आयोग ने सिद्धू को किया खामोश, विवादित बयान के बाद लगाया बैन

लोकसभा चुनाव के तहत चुनाव प्रचार के दौरान विवादित टिप्‍पणी के मामले में चुनाव आयोग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए नवजोत सिंह सिद्धू पर 72 घंटे का चुनाव प्रचार को लेकर बैन लगा दिया है.

चुनाव आयोग ने सिद्धू को किया खामोश, विवादित बयान के बाद लगाया बैन

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha elections 2019) के तहत चुनाव प्रचार के दौरान विवादित टिप्‍पणी के मामले में चुनाव आयोग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए नवजोत सिंह सिद्धू पर 72 घंटे का चुनाव प्रचार को लेकर बैन लगा दिया है. बिहार में नवजोत सिंह सिद्धू के दिए विवादस्पद बयान पर चुनाव आयोग ने गंभीरता लेते हुए उनके भाषण की सीडी मंगवाई थी. सिद्धू ने बिहार के कटिहार जिले में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि, 'अगर लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी को हराना है तो सभी मुस्लिम मतदाताओं को एकजुट होकर वोट करना होगा.

सिद्धू के बयान के बाद विवाद पैदा हो गया. इसके बाद बीजेपी की तरफ से केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि, बांटने की राजनीति कांग्रेस के डीएनए में है. ये कोई नई परम्परा नई है. रविशंकर प्रसाद ने कहा कि जेएनयू में जब कहा जा रहा था कि देश के टुकड़े होंगे, तब उनका समर्थन करने राहुल गांधी वहां गए थे.

जानिए, आखिर सिद्धू ने रैली में क्या कहा था 
विपक्षी महागठबंधन में शामिल कांग्रेस प्रत्याशी तारिक अनवर के पक्ष में मुस्लिम बहुल कटिहार में आयोजित एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए सिद्धू ने मोदी पर निशाना साधते हुए मुसलमानों से कहा 'ये बांट रहे हैं आपको.’’ कटिहार के पडोसी किशनगंज लोकसभा सीट, जहां से असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम ने अपना उम्मीदवार उतारा है, की ओर इशारा करते हुए सिद्धू ने कहा ' मुस्लिम भाइयों ये यहां पर ओवैसी साहेब जैसे लोगों को लाकर आप लोगों के वोट बांटकर जीतना चाहते हैं.’’ सिद्धू ने मुसलमानों से कहा, 'यहां माइनॉरटी मजॉरटी में है. अगर तुम लोगों ने एकजुट होकर वोट डाला तो सब पलट जाएगा. मोदी सलट जाएगा. छक्का लग जाएगा.’’ 

बीजेपी प्रदेश उपाध्यक्ष ने बयान की कड़ी निंदा की थी 
बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष देवेश कुमार ने कहा था, “हम नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा की गई टिप्पणी की कड़ी निंदा करते हैं. उनकी टिप्पणियां कांग्रेस की अल्पसंख्यक तुष्टिकरण की नीति और पार्टी की एक आसन्न हार की चिंता का परिणाम हैं”. देवेश ने कहा “एक तरफ, मोदी के नेतृत्व में हमारी पार्टी सबका साथ, सबका विकास के आदर्श के साथ काम कर रही है और दूसरी तरफ कांग्रेस के पास विभाजनकारी राजनीति के अलावा कुछ भी नहीं है. हम कांग्रेस नेता द्वारा इस निंदनीय कृत्य की निंदा करते हैं”. उन्होंने कहा “हम चुनाव आयोग से भी आग्रह करेंगे कि वह उनके बयानों के खिलाफ संज्ञान लें और उचित कार्रवाई करे”.
इनपुट भाषा से भी