कमलनाथ पर फूटा 'आइटम बम', छिन गया स्टार प्रचारक का दर्जा

बता दें कि आयोग ने चुनाव प्रचार में कमल नाथ द्वारा लगातार किए जा रहे आपत्तिजनक बयानबाजी को आधार बनाया है. इस फैसले के बाद अब कमलनाथ की सभाओं का खर्च प्रत्याशी के खर्च में जुड़ेगा.

कमलनाथ पर फूटा 'आइटम बम', छिन गया स्टार प्रचारक का दर्जा

भोपाल: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) के खिलाफ चुनाव आयोग ने बड़ी कार्रवाई की है. उनसे स्टार प्रचारक का दर्जा छीन लिया गया है. बता दें कि चुनाव प्रचार के दौरान कमलनाथ ने आपत्तिजनक बयान दिए थे, साथ ही उन्होंने अपने बयान पर माफी मांगने से भी इनकार कर दिया था. ऐसे में अब कांग्रेस नेता के खिलाफ चुनाव आयोग की ये कार्रवाई पार्टी को भारी पड़ सकती है. 

बता दें कि आयोग ने चुनाव प्रचार में कमल नाथ द्वारा लगातार किए जा रहे आपत्तिजनक बयानबाजी को आधार बनाया है. इस फैसले के बाद अब कमलनाथ की सभाओं का खर्च प्रत्याशी के खर्च में जुड़ेगा. साथ ही उनकी प्रचार में हवाई यात्रा का खर्च भी प्रत्याशी के खाते में ही जोड़ा जाएगा. बता दें कि स्टार प्रचारक के प्रचार का खर्च पार्टी के खाते में जुड़ता है, इसका भार प्रत्याशी पर नहीं आता है.

क्या कहा था कमलनाथ ने?
आपको बता दें कि डबरा में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बीजेपी प्रत्याशी और मंत्री इमरती देवी पर तंज कस रहे थे. कमलनाथ डबरा में कांग्रेस प्रत्याशी सुरेश राजे के समर्थन में जनसभा को संबोधित करने पहुंचे थे. इस दौरान उन्होंने डबरा से बीजेपी की प्रत्याशी इमरती देवी पर तंज कसते हुए कहा कि आप तो उसे मुझसे ज्यादा पहचानते हैं, आपको मुझे पहले ही सावधान कर देना चाहिए था. ये क्या आइटम है. इतना कहते ही कमलनाथ मुस्कुरा गए, तो जनता ने भी तालियां बजाते हुए ठहाके लगाने शुरू कर दिए. कमलनाथ ने इमरती देवी को जलेबी भी कहा था. 

कमलनाथ के इस तरह की अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करने पर राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने उन्हें घेरे में ले लिया. सिंधिया ने वीडियो ट्वीट करते हुए लोगों से कमलनाथ को सबक सिखाने को कहा. सिंधिया ने लिखा, ''एक गरीब और मजदूर परिवार से आगे आईं दलित नेता इमरती देवी जी को आज डबरा में आइटम और जलेबी कहना अत्यंत निंदनीय और आपत्तिजनक है - ये कमलनाथ जी की मानसिकता को भी दर्शाता है. महिलाओं के साथ ही समूचे दलित समाज का अपमान करने वाले ऐसे मगरूर नेता को सबक सिखाने का समय आ गया है.

वहीं शिवराज सिंह ने मौन धारण करने के साथ-साथ ट्वीट कर लिखा था, ‘कमलनाथ जी! इमरती देवी उस गरीब किसान की बेटी का नाम है जिसने गांव में मजदूरी करने से शुरुआत की और आज जनसेवक के रूप में राष्ट्रनिर्माण में सहयोग दे रही हैं। कांग्रेस ने मुझे ‘भूखा-नंगा’ कहा और एक महिला के लिए आपने ‘आइटम’ जैसे शब्द का उपयोग कर अपनी सामंतवादी सोच फिर उजागर कर दी.’

बीजेपी के साथ-साथ कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने भी नाराजगी जताई थी. राहुल ने कहा था, ''कमलनाथ भले ही मेरी पार्टी के हैं, वे चाहे जो भी हों, लेकिन जिस भाषा का इस्तेमाल उन्होंने किया है, मैं निजी तौर पर उसे पसंद नहीं करता. 'पार्टी के नेता ने भी उनके इस बयान को गलत बता दिया है. बावजूद इसके कमलनाथ को अपनी बात जरा भी गलत नहीं लग रही है. कमलनाथ ने राहुल की प्रतिक्रिया को 'उनका अपना विचार' बता दिया है. वहीं इस मामले में बीजेपी की शिकायत के बाद 48 घंटे में कमलनाथ से जवाब मांगा था. तब भी उन्होंने माफी नहीं मांगी थी. 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.