close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VVIP हेलीकॉप्टर घोटाला: ईडी ने कथित बिचौलिये के खिलाफ पूरक आरोपपत्र दाखिल किया

ईडी ने अंतिम रिपोर्ट दाखिल करते हुए न्यायाधीश को बताया कि एक अन्य बिचौलिये और इस मामले में हाल ही में सरकारी गवाह बने राजीव सक्सेना का बयान तथा कुछ डायरी एक बंद लिफाफे में अदालत को सौंपी गई है.

VVIP हेलीकॉप्टर घोटाला: ईडी ने कथित बिचौलिये के खिलाफ पूरक आरोपपत्र दाखिल किया
फाइल फोटो

नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय ने अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर घोटाले में गिरफ्तार किए गए कथित रक्षा एजेंट सुशेन मोहन गुप्ता के खिलाफ धनशोधन मामले में दिल्ली की एक अदालत में बुधवार को एक पूरक आरोप-पत्र दाखिल किया. जांच एजेंसी ने विशेष न्यायधीश अरविंद कुमार के समक्ष गुप्ता के खिलाफ यह पूरक आरोप-पत्र दाखिल किया. गुप्ता को ईडी ने धन शोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत गिरफ्तार किया था और वह फिलहाल न्यायिक हिरासत में है. गुप्ता ने जमानत की अर्जी दी है, जिस पर गुरुवार को सुनवाई होगी जब अदालत आरोपपत्र पर विचार करेगी. 

ईडी ने अंतिम रिपोर्ट दाखिल करते हुए न्यायाधीश को बताया कि एक अन्य बिचौलिये और इस मामले में हाल ही में सरकारी गवाह बने राजीव सक्सेना का बयान तथा कुछ डायरी एक बंद लिफाफे में अदालत को सौंपी गई है. ईडी के विशेष सरकारी वकील डीपी सिंह और एन के माट्टा ने अदालत से कहा, ‘‘उन डायरी में गोपनीय सूचना हैं और यह न्याय के हित में नहीं होगा कि उन डायरी को दूसरे पक्ष के साथ साझा किया जाए.’’ जांच एजेंसी ने अदालत से कहा कि हेलीकॉप्टर घोटाला और अन्य रक्षा सौदों में गुप्ता की भूमिका के बारे में पुख्ता सबूत हैं. 

सक्सेना को यूएई से प्रत्यर्पित करा कर भारत लाए जाने के बाद जांच एजेंसी ने उसे गिरफ्तार किया था. इसके बाद वह सरकारी गवाह बन गया था. सक्सेना के बयान के आधार पर मामले में गुप्ता की भूमिका सामने आई थी. यह संदेह है कि 3,600 करोड़ रुपए के अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदे के लेन-देन का ब्योरा गुप्ता के पास है.