close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिना कोचिंग के पहली ही कोशिश में पास की पीसीएज(जे) परीक्षा, इलाके की बेटियों के लिए बनीं मिसाल

मैने कोई कोचिंग नहीं, बस एक मकसद बनाकर पूरी मेहनत से पढ़ाई की और कामयाबी मिल गयी. ये शब्द फरहा नाज़ के हैं, जो पीसीएज(जे) का इम्तिहान पास करके अब सिविल जज बन गयी है. 

बिना कोचिंग के पहली ही कोशिश में पास की पीसीएज(जे) परीक्षा, इलाके की बेटियों के लिए बनीं मिसाल

नई दिल्ली: "मैं यकीन नहीं कर पा रही हूं, लेकिन ये सच है, कि मैने पीसीएस (जे) का इम्तिहान पास कर लिया है. मैने कोई कोचिंग नहीं, बस एक मकसद बनाकर पूरी मेहनत से पढ़ाई की और कामयाबी मिल गयी". ये शब्द फरहा नाज़ के हैं, जो पीसीएज(जे) का इम्तिहान पास करके अब सिविल जज बन गयी है. 20 जुलाई को जब पीसीएज(जे) का रिजल्ट आया, तो ये खबर पूरे इलाके में आग की तरह फैल गई की सहारनपुर जिले के सोहनचिड़ा गाँव में रहने वाले पूर्व प्रधान हाजी अय्यूब की बेटी फरहा नाज़ जज बन गयी है. खबर सुनते ही बधाई देने वालों का तांता लग गया, जो अभी तक भी जारी है.

फरहा के गाँव का नाम सोहनचिड़ा है 
फरहा के गाँव का नाम सोहनचिड़ा है जो सहारनपुर के नागल इलाके में आता है. मुस्लिम बाहुल्य ये इलाका शिक्षा के मैदान में बेहद पिछड़ा है और खास तौर पर यहां की मुस्लिम बेटियां 10वी 12वी की पढ़ाई के बाद आगे की शिक्षा हासिल करने के लिए बड़ा संघर्ष करती नज़र आती है. ऐसे में फ़रहत नाज़ की ये कामयाबी पूरे इलाके की बेटियों के लिए बहुत बड़ी नज़ीर मानी जा रही है.

Image

फरहा की बुनियादी शिक्षा गाँव के ही स्कूल से हुई.
फरहा की बुनियादी शिक्षा गाँव के ही स्कूल से हुई. आठवीं के बाद नांगल के एक स्कूल से बारहवीं तक पढ़ाई की, जिसके बाद अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए दाखिला ले लिया. हालांकि दो साल में ही फरहा ने बीए को छोड़ दिया और फिर बीए एलएलबी की पढ़ाई शुरू कर दी. 

फरहा कहती है कि उन्होंने ठान लिया था कि वकालत नहीं करनी बल्कि जज बनना है, इसी टारगेट को पूरा करने के लिए उन्होंने मेहनत की और आज वो मेहनत रंग लाई. फरहा ने मई के महीने में ही एलएलएम की पढ़ाई पूरी की है. फरहा कहती है, कि बेटियों से सिर्फ मौका मिलना चाहिए, बाक़ी सब काम वो खुद कर लेती है.

फरहा की इस कामयाबी में उनके बड़े भाई तनवीर का भी अहम रोल है जो आईआईटी इंदौर में प्रोफेसर है. फरहा सितंबर तक गाँव में ही रहेगी. सितंबर से लखनऊ जेटीआरआई में उसकी 3 महीने की ट्रेनिंग होगी और उसके बाद पोस्टिंग.