MP में भी 'पद्मावत' की रिलीज का रास्ता साफ, HC ने राज्य सरकार को दिए निर्देश

पिछले दिनों हुई सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को फिल्म रिलीज कराने का आदेश देते हुए कहा कि तमाम सिनेमाघरों के बाहर जरूरी सुरक्षा मुहैया कराए जाए. 

MP में भी 'पद्मावत' की रिलीज का रास्ता साफ, HC ने राज्य सरकार को दिए निर्देश
फिल्म के लिए करणी सेना पहले ही विरोध को वापस ले चुकी है (फाइल फोटो )

जबलपुर: विरोधों के बाद देश के कुछ राज्यों में रिलीज पर बैन लगने के बाद मध्यप्रदेश से पद्मावत के लिए राहत की खबर आई है. जबलपुर हाईकोर्ट ने मध्यप्रदेश के तमाम शहरों में फिल्म की रिलीज का रास्ता साफ कर दिया है. पिछले दिनों हुई सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को फिल्म रिलीज कराने का आदेश देते हुए कहा कि तमाम सिनेमाघरों के बाहर जरूरी सुरक्षा मुहैया कराए जाए. दरअसल सिनेमा एसोसिएशन और फ़िल्म निर्माता कंपनी की ओर से हाईकोर्ट में एक याचिका दायर कर फिल्म की रिलीज पर बैन लगाने की मांग की गई थी.

राज्य सरकार को रिपोर्ट सौंपने के आदेश
मामले की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को प्रदेश में विरोध करने वालों और फिल्म की रिलीज टालने पर रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा है. कोर्ट ने राज्य सरकार को इस रिपोर्ट को सौंपने के लिए फरवरी के आखिरी सप्ताह तक का समय दिया है. कोर्ट ने स्पष्ट किया है कि फिल्म को जल्द ही प्रदेश के तमाम सिनेमाघरों में रिलीज किया जाएगा, लेकिन रिपोर्ट पर इस महीने के अंतिम सप्ताह में सुनवाई होगी.

यह भी पढ़ें : राजस्‍थान में नहीं रिलीज होगी संजय लीला भंसाली की फिल्‍म 'पद्मावत'

 

5 जनवरी को रिलीज होनी थी फिल्म
पिछले दिनों ‘पद्मावत’ पर मध्यप्रदेश में प्रतिबंध के सवाल के जवाब में प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा था, ‘‘जो कहा था, वो होगा.’’ हालांकि उन्होंने इस विवादास्पद फिल्म पर मध्य प्रदेश सरकार के रुख के बारे में अधिक स्पष्टीकरण नहीं दिया था. पहले उम्मीद जताई जा रही थी कि यह फिल्म 25 जनवरी को रिलीज हो जाएगी.

यह भी पढ़ें : 'पद्मावत': राजपूत महिलाओं ने स्थगित किया सामूहिक 'जौहर', अब राष्ट्रपति से इच्छामृत्यु की मांग

राजपूत क्षत्रिय समाज ने की थी मुलाकात
गौरतलब है कि 20 नवम्बर को मुख्यमंत्री निवास परिसर भोपाल में राजपूत क्षत्रिय समाज के प्रतिनिधिमंडल के लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा था, ‘‘इतिहास पर जब फिल्में बनाई जाती हैं तो ऐतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ कोई बर्दाश्त नहीं करेगा. पूरा देश एक स्वर में कह रहा है कि फिल्म में ऐतिहासिक मूल्यों से खिलवाड़ किया गया है इसलिये मैं पूरे जोश और होश में यह कह रहा हूं कि ऐतिहासिक तथ्यों से खिलवाड़ कर अगर रानी पद्मावती के सम्मान के खिलाफ फिल्म में दृश्य रखे गये तो उसका प्रदर्शन मध्यप्रदेश की धरती पर नहीं होगा.’’  

गोवा में 'पद्मावत' की रिलीज को पर्रिकर की हरी झंडी
गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का कहना है कि अगर सेंसर बोर्ड ने 'पद्मावत' को प्रमाणित कर दिया है तो गोवा सरकार को राज्य में फिल्म की रिलीज को लेकर कोई आपत्ति नहीं है.  पर्रिकर ने कहा, "यदि उनके पास सेंसर प्रमाण-पत्र है, तो हमें कोई आपत्ति नहीं है. यदि कानून-व्यवस्था का कोई मुद्दा है, तो हम इसे देख लेंगे." उन्होंने कहा, "अब तक, हमें फिल्म रिलीज होने की कोई सूचना नहीं मिली है. यदि इसके पास सेंसर प्रमाणपत्र है तो हम इसे नहीं रोक रहे." उन्होंने कहा, "यदि वे कुछ संशोधनों के साथ सेंसर प्रमाणपत्र के साथ आते हैं, तो हमें इसमें हस्तक्षेप का कोई बड़ा कारण नहीं दिख रहा है."

BJP विधायक का भड़काऊ बयान
हैदराबाद के बीजेपी विधायक टी. राजा सिंह ने फिल्‍म 'पद्मावत' के विरोध के लिए लोगों को किसी भी हद तक जाने का ऐलान किया था. उन्‍होंने इस फिल्‍म का विरोध करने के लिए 'पद्मावत' दिखाने वाले सिनेमाघरों को जलाने तक की बात कही था. सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो में टी. राजा ने एक वीडियो में कहा था, 'मैं लोगों से इस फिल्‍म का विरोध करने की विनती करता हूं. जो भी थिएटर यह फिल्‍म दिखाए, आप उसे आप तहस-नहस कर दें, वहां आग लगा दें. आप यह कोशिश करें कि संजय लीला भंसाली जैसे डायरेक्‍टर को बुरी तरह नुकसान हो और कोई भी और निर्देशक इतिहास के साथ कभी छेड़छाड़ न करे.'