close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: पहली हवाई यात्रा से पहले समझें टर्मिनल गेट से विमान प्रवेश तक की पूरी प्रक्रिया

पहली बार हवाई यात्रा पर जाने वाले मुसाफिरों के मन की हिचक को दूर करने के लिए हमने एयरपोर्ट के टर्मिनल गेट से विमान में प्रवेश करने तक की प्रक्रिया का उल्‍लेख किया है. ZEE-DIGITAL की इस खास पेशकश में दिल्‍ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय एयरपोर्ट के डीआईजी श्रीकांत किशोर की जुबानी जानिए टर्मिनल में प्रवेश करने से पहले, चेक-इन काउंटर, प्री-इंबार्केशन सिक्‍योरिटी चेक और बोर्डिंग की प्रक्रिया में क्‍या-क्‍या होता है.

VIDEO: पहली हवाई यात्रा से पहले समझें टर्मिनल गेट से विमान प्रवेश तक की पूरी प्रक्रिया
Play

नई दिल्‍ली: पहली बार हवाई यात्रा पर जाने वाले मुसाफिरों के मन में एयरपोर्ट की प्रक्रियाओं को लेकर एक हिचक होती है. आपकी इस हिचक को दूर करने के लिए ZEE-DIGITAL आपको एयरपोर्ट पर टर्मिनल गेट में प्रवेश करने से लेकर विमान  में दाखिल होने तक की स‍भी प्रक्रियाओं के बाबत अवगत करा रहा है. 

उल्‍लेखनीय है कि घरेलू यात्रा पर जाने वाले मुसाफिरों को टर्मिनल गेट से विमान में प्रवेश करने तक कुल चार प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ता है. वहीं अंतरराष्‍ट्रीय हवाई सफर पर जाने वाले मुसाफिरों को छह प्रक्रियाओं को पूरा करना होता है. आइए अब आपको एयरपोर्ट की सभी प्रक्रियाओं के बाबत सिलसिलेवार तरीके से बताते हैं. 

फ्लाइट के निर्धारित समय से कितने मिनट पहले पहुंचे एयरपोर्ट
घरेलू हवाई यात्रा पर जाने वाले मुसाफिरों को फ्लाइट के निर्धारित समय से कम से कम एक घंटा पहले एयरपोर्ट पहुंचा चाहिए. वहीं अंतरराष्‍ट्रीय उड़ान पर जाने वाले मुसाफिरों को कम से कम फ्लाइट के निर्धारित समय से 3 घंटे पहले एयरपोर्ट पहुंचना चाहिए. 

पहला चरण: टर्मिनल गेट पर पहचान पत्र और टिकट की जांच 
एयरपोर्ट की टर्मिनल बिल्डिंग के सभी गेट पर सीआईएसएफ या दूसरी सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारी तैनात रहते हैं. ये अधिकारी आपके एयर टिकट और पहचान पत्र की जांच करते हैं. घरेलू उड़ान पर जाने वाले मुसाफिर अपना पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड और आधार कार्ड को पहचान पत्र के रूप में दिखा सकते हैं. विदेश यात्रा पर जाने वाले मुसाफिरों के लिए पासपोर्ट अनिवार्य है. वहीं पहचान-पत्र के रूप में एम-आधार कार्ड भी मान्‍य है. पहचान पत्र की फोटोकॉपी मान्‍य नहीं होती है. इसके अलावा, टर्मिनल गेट पर एयर टिकट के प्रिंट आउट के साथ ई-टिकट भी मान्‍य है.

12 वर्ष से कम उम्र के बच्‍चों का पहचान पत्र
ब्‍यूरो ऑफ सिविल एविएशन सिक्‍योरिटी के नियमों के अनुसार, 12 वर्ष से कम उम्र के ऐसे बच्‍चों के लिए पहचान-पत्र अनिवार्य नहीं है जो अपने माता-पिता के साथ हवाई सफर कर रहे हैं. यदि 12 वर्ष से कम उम्र का बच्‍चा अकेले हवाई सफर कर रहा है, ऐसी स्थिति में उसका पहचान-पत्र अनिवार्य होगा. 

दूसरा चरण: बोर्डिग-पास और बैगेज चेक-इन 
टर्मिनल बिल्डिंग में प्रवेश करने के बाद आपको संबंधित एयरलाइंस के काउंटर पर जाना होगा. जहां एयरलाइंस प्रतिनिधि आपके एयर टिकट का मिलान अपने डाटा से करेगा. मिलान होने के बाद वह आपको आपका बोर्डिंग पास जारी कर देगा. इसके अलावा, इसी काउंटर पर आपको अपना 8 किलो से अधिक भार वाला सामान एयरलाइंस के सुपुर्द करना होगा. उल्‍लेखनीय है कि सभी एयरलाइंस ने सामान का अधिकतम भार तय कर रहा है. अधिकतम भार होने पर आपको अतिरिक्‍त शुल्‍क एयरलाइंस को भुगतान करना होगा. 

यदि आपके पास चेक-इन बैगेज नहीं है तब
यदि आपके पास सिर्फ आठ किलो भार वाला एक छोटा बैग है तो आपको चेक-इन काउंटर पर जाने की जरूरत नहीं है. आप टर्मिनल में लगे चेक-इन कियोस्‍क से अपना बोर्डिग पास स्‍वत: हासिल कर सकते हैं. इसके अलावा, आप अपने घर पर मोबाइल या लैटपाट के जरिए वेब चेकइन करके अपना ई-बोर्डिंग पास हासिल कर सकते हैं. ऐसा करने पर आपको एयरलाइंस काउंटर पर लगने वाली कतारों में नहीं जूझना पड़ेगा. 

30 मिनट पहले बंद हो जाते हैं चेक-इन काउंटर
यदि आपने वेब चेक-इन नहीं कराया है तो आपको हर हाल में फ्लाइट के निर्धारित समय से 30 मिनट पहले एयरपोर्ट पहुंचना होगा. 30 मिनट से एक सेकेंड की भी देर होने पर चेक-इन सिस्‍टम स्‍वत: बंद हो जाएगा और आप अपनी यात्रा पर नहीं जा सकेंगे. इसी तरह, विदेश जाने वाली फ्लाइट का चेक-इन सिस्‍टम 45 मिनट पहले बंद हो जाता है. 

तीसरा चरण: प्री-इंबार्केशन सिक्‍योरिटी चेक
बोर्डिंग पास हासिल करने के बाद आपको प्री-इंबार्केशन सिक्‍योरिटी चेक के लिए जाना होगा. जहां आपकी और आपके हैंड बैग की जांच होगी. यहां उल्‍लेखनीय है कि सुरक्षा जांच से पहले आप अपनी जेब में मौजूद सभी चीजों को वहां मौजूद ट्रे में डालकर एक्‍स-रे के लिए दे दें. इसके अलावा, यदि आपके बैग में कोई इलेक्‍ट्रानिक आइटम है तो उसे भी बैग से बाहर निकाल कर एक्‍स-रे में डालना होगा. हैंड बैग में जेल, मिर्च या किसी भी प्रकार का केमिकल और लिक्विड ले जाने की इजाजत नहीं होती है. इसी तरह, हैड बैग में कैंची, चाकू सहित धारदार वस्‍तुएं ले जाना प्रतिबंधित है. प्री-इंबार्केशन सिक्‍योरिटी चेक पूरा होने के बाद सुरक्षा अधिकारी आपके बोर्डिंग पास को स्‍टैंप करेंगे और आपको बोर्डिंग गेट की तरफ जाने की इजाजत मिल जाएगी.

चौथा चरण: बोर्डिंग गेट पर बोर्डिंग पास की जांच 
प्री-इंबार्केशन सिक्‍योरिटी चेक के बाद आप बोर्डिंग गेट की तरफ प्रस्‍थान कर सकते हैं. बोर्डिंग गेट पर एक बार फिर आपके बोर्डिंग पास की जांच होगी और आपको विमान में प्रवेश करने की इजाजत दे दी जाएगी. उल्‍लेखनीय है कि एयरपोर्ट पर विमान में प्रवेश करने के लिए दो तरह की व्‍यवस्‍थाएं होती हैं. पहली व्‍यवस्‍था के तहत आप एयरोब्रिज से विमान में प्रवेश कर सकते हैं. जिन एयरपोर्ट पर एयरपोब्रिज की सुविधा नहीं है या वहां पर सीमित संख्‍या में एयरोब्रिज हैं, वहां पर टर्मिनल से विमान तक मुसाफिरों को बस के जरिए ले जाया जाता है. विमान में प्रवेश करने से पहले एयरलाइंस सुरक्षा अधिकारी आपका बोर्डिंग पास चेक करके आपको विमान में प्रवेश करने की इजाजत दे देंगे.   

विदेश यात्रा पर जाने वाले मुसाफिर
विदेश यात्रा पर जाने वाले मुसाफिरों को दो अतिरिक्‍त प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ता है. इन मुसाफिरों को चेक-इन के बाद इमीग्रेशन चेक के लिए प्रस्‍थान करना होता है. इमीग्रेशन-चेक के दौरान आपका पासपोर्ट और उसमें लगे वीजा की जांच होती है. इमीग्रेशन प्रक्रिया होने के बाद आपको कस्‍टम के लिए जाना होता है. यहां ध्‍यान देने वाली बात यह  है कि यदि आपके पास निर्धारित सीमा से अधिक मात्रा में नगदी या ऐसी वस्‍तु है जिसका डिक्‍लेशन करना आवश्‍यक है, तभी आपको कस्‍टम काउंटर में जाने की आवश्‍यकता है. अन्‍यथा आप सीधे प्री-इंबार्केश सिक्‍योरिटी चेक की प्रक्रिया को पूरा कर बोर्डिंग गेट के लिए प्रस्‍थान कर सकते हैं.