close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा के पूर्व स्पीकर सोमनाथ चटर्जी का निधन, लंबे समय से किडनी की बीमारी से थे ग्रसित

पूर्व लोकसभा अध्‍यक्ष्‍ा सोमनाथ चटर्जी का निधन हो गया है. लंबे समय से बीमार चल रहे सोमनाथ चटर्जी 89 साल के थे. सोमवार को उन्होंने सुबह 8:15 बजे अस्पताल में अंतिम सांस ली.  

लोकसभा के पूर्व स्पीकर सोमनाथ चटर्जी का निधन, लंबे समय से किडनी की बीमारी से थे ग्रसित
बतौर लोकसभा स्पीकर के तौर पर सोमनाथ चटर्जी के कार्यकाल की मिसाल दी जाती है.

कोलकाता: पूर्व लोकसभा अध्‍यक्ष्‍ा सोमनाथ चटर्जी का निधन हो गया है. लंबे समय से बीमार चल रहे सोमनाथ चटर्जी 89 साल के थे. सोमवार को उन्होंने सुबह 8:15 बजे अस्पताल में अंतिम सांस ली. वे कुछ दिन से कोलकाता के एक अस्‍पताल में वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे. चटर्जी 2004 से 2009 तक लोकसभा अध्यक्ष रहे हैं. सोमनाथ चटर्जी को किडनी संबंधी परेशानी होने के बाद 10 अगस्‍त को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था. इससे पहले तबीयत बिगड़ने पर 28 जून को कोलकाता के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. तबीयत में बाद में सुधार होने पर उन्‍हें डिस्चार्ज कर दिया गया था. इसके बाद उनकी तबीयत 10 अगस्‍त को अचानक फिर बिगड़ी तो उन्‍हें दोबारा अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था. साल 2008 में मार्क्सवादी कम्यूनिस्ट पार्टी (माकपा) ने सोमनाथ चटर्जी को पार्टी से निकाल दिया था.

सोमनाथ चटर्जी से जुड़ी बातें-:
- सोमनाथ चटर्जी का जन्म 25 जुलाई 1929 को हुआ था. उनके पिता बंगाली ब्राह्मण एनसी चटर्जी और वीणापाणि देवी थे. उन्होंने अपनी पढ़ाई कलकत्ता (कोलकाता) और ब्रिटेन में की. इसके अलावा उन्होंने कोलकाता के प्रेसिडेंसी कॉलेज में भी पढ़ाई की.

-सोमनाथ चटर्जी ने ब्रिटेन में लॉ की पढ़ाई करने के बाद कलकत्ता हाइकोर्ट में प्रैक्टिस की और उसके बाद राजनीति में अपना कदम रखा.उन्होंने अपनी राजनीतिक करियर बतौर अधिकवक्त शुरूआत की.

- वे साल 1968 में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य बन गए. यहां से उनके राजनीतिक करियर की असली शुरुआत हुई. इसके बाद चटर्जी ने पहली बार 1971 में लोकसभा चुनाव जीते. साल 2004 में 14वीं लोकसभा में वे दसवीं बार निर्वाचित किए गए.

- 4 जून 2004 को जब वे 14वीं लोकसभा के अध्यक्ष के रुप में चुने गए तो उनके नाम पर प्रस्ताव कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रखा, जो सर्वसम्मति से स्वीकार कर लिया गया और श्री सोमनाथ चटर्जी निर्विरोध अध्यक्ष निर्वाचित कर लिए गए.