close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जम्मू-कश्मीर में ताजा हिमस्खलन, मृतकों की संख्या 20 हुई

जम्मू श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर शुक्रवार को भूस्खलन और हिमस्खलन की कई घटनाएं हुई, इसके अलावा पिछले कई दिनों में राज्यभर में हिमस्खलन की अनेक घटनाओं में अब तक 20 लोगों की मौत हो चुकी है जिनमें सेना के 14 जवान भी शामिल हैं। बनिहाल में आज हुए ताजा हिमस्खलन ने पहले से ही हिमपात के कारण तीन दिन से बंद चल रहे इस मार्ग को साफ करने के सीमा सड़क संगठन के काम को बाधित कर दिया है।

जम्मू-कश्मीर में ताजा हिमस्खलन, मृतकों की संख्या 20 हुई
फाइल फोटो

श्रीनगर-बनिहाल : जम्मू श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर शुक्रवार को भूस्खलन और हिमस्खलन की कई घटनाएं हुई, इसके अलावा पिछले कई दिनों में राज्यभर में हिमस्खलन की अनेक घटनाओं में अब तक 20 लोगों की मौत हो चुकी है जिनमें सेना के 14 जवान भी शामिल हैं। बनिहाल में आज हुए ताजा हिमस्खलन ने पहले से ही हिमपात के कारण तीन दिन से बंद चल रहे इस मार्ग को साफ करने के सीमा सड़क संगठन के काम को बाधित कर दिया है।

श्रीनगर के एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘गुरेज में बचाव दल ने हिमस्खलन वाले स्थान से आज चार सैनिकों के शव बरामद किए, जिसके बाद इस दुर्घटना में मरने वाले सैनिकों की संख्या बढ़ कर 14 हो गई है। बुधवार को गुरेज सेक्टर में हिस्खलन की दो घटनाएं हुईं थीं जिससे अनेक सैनिक मलबे में दब गए थे।’ 

बचाव दल ने कल सात सैनिकों को जिंदा निकाल लिया जबकि 10 सैनिकों के शव मिले थे। इसके अलावा बारामूला के उरी सेक्टर में 60 वर्षीय फतेह मोहम्मद मुगल की कल शाम हिमस्खलन की चपेट में आने से मौत हो गई। वह घर से बाहर निकले थे और हिमस्खलन की चपेट में आ गए। स्थानीय लोगों और पुलिस ने मुगल को मलबे से बाहर निकाला और अस्पताल पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

कश्मीर में पिछले चार दिनों में हिमपात के बाद हुए हिमस्खलन में 20 से अधिक लोगों की जानें जा चुकी हैं, जिनमें सेना के 15 जवान शामिल हैं। घाटी में हिमस्खल के भीषण खतरे की चेतावनी जारी की गई है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि रामबन जिले के बनिहाल में शैतान नाला क्षेत्र के राजमार्ग में आज कई हिमस्खलन हुए हैं। बनिहाल रामबन सेक्टर में भारी बारिश के बाद भूस्खलन की कई घटनाएं हुईं हैं जिसने पहले से ही बंद पड़े मार्ग की सफाई के कार्य को और दुरूह बना दिया है।