close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सैयद अली शाह गिलानी की मांग, 'जम्मू-कश्मीर में लागू हो शराबबंदी'

गिलानी ने धार्मिक विद्वानों से अपील की कि वे शराब के इस्तेमाल के खिलाफ अभियान चलाएं और स्वास्थ्य, समाज तथा पारिवारिक संबंधों पर इसके दुष्प्रभावों के बारे में लोगों को जागरुक करें.

सैयद अली शाह गिलानी की मांग, 'जम्मू-कश्मीर में लागू हो शराबबंदी'
सैयद अली शाह गिलानी ने कहा, ‘‘हम उम्मीद करते हैं कि हर कोई समाज से इस बुराई को उखाड़ फेंकने में अपनी भूमिका निभाएगा.’’ (फाइल फोटो)

श्रीनगर: हुर्रियत कान्फ्रेंस के कट्टरपंथी धड़े के नेता सैयद अली शाह गिलानी ने अन्य राज्यों में शराबबंदी का हवाला देते हुए सोमवार को मांग की कि जम्मू कश्मीर में शराब के इस्तेमाल और बिक्री पर पूर्ण रोक लगाई जानी चाहिए. गिलानी ने धार्मिक विद्वानों से अपील की कि वे शराब के इस्तेमाल के खिलाफ अभियान चलाएं और स्वास्थ्य, समाज तथा पारिवारिक संबंधों पर इसके दुष्प्रभावों के बारे में लोगों को जागरुक करें.

'लोग इस बुराई के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं'
सैयद अली शाह गिलानी ने कहा, ‘‘यह उत्साहजनक है कि राज्य में लोग इस बुराई के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं.’’ गिलानी ने कहा, ‘‘हम उम्मीद करते हैं कि हर कोई समाज से इस बुराई को उखाड़ फेंकने में अपनी भूमिका निभाएगा.’’  विधानसभा में शराबबंदी को लेकर पेश किए गए निजी विधयेक का जिक्र करते हुए गिलानी ने कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि विधायकों ने दावा किया कि शराब पर रोक से राजस्व उत्पादन प्रभावित होगा.

हमने पाक के खिलाफ हर जंग जीती, फिलहाल बातचीत ही रास्ता : CM महबूबा मुफ्ती

और क्या गिलानी ने?
उन्होंने कहा, ‘‘भारत के चार राज्य, जहां शराब पर पूरी तरह रोक लगा दी गई है, किसी राजस्व हानि की कोई शिकायत नहीं करते और यहां तक कि भूख या गरीबी से कोई नहीं मर रहा है.’’ बिहार, गुजरात और नगालैंड में शराब पर रोक लगा दी गई है, जबकि केरल ने आंशिक प्रतिबंध लगाया है.

(इनपुट - भाषा)