close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Google को '2020 सिख रेफरेंडम' से जुड़ना पड़ा भारी, सोशल मीडिया पर लोगों ने जताई नाराज़गी

कुछ अलगाववादी सिख संगठन भारत से अलग पंजाब की मांग कर रहे हैं. वो भारत के ख़िलाफ दुनियाभर में सोशल मीडिया के जरिए दुष्प्रचार करने की कोशिश कर रहे हैं कि साल 2020 में एक जनमत संग्रह (Referendum) होगा, जिससे तय होना है कि सिखों को एक अलग देश मिलना चाहिए या नहीं

Google को '2020 सिख रेफरेंडम' से जुड़ना पड़ा भारी, सोशल मीडिया पर लोगों ने जताई नाराज़गी
गूगल प्लेस्टोर पर 2020 सिख रेफरेंडम से जुड़ी ऐप

नई दिल्ली: गूगल (Google) को अपने ऐप प्लेटफॉर्म 'गूगल प्ले स्टोर' (Google Play Store) में भारत विरोधी एजेंडे से जुड़ी '2020 सिख रेफरेंडम' (2020 Sikh Referendum) ऐप को रखना भारी पड़ गया है. सोशल मीडिया पर लोगों ने गूगल को जमकर फटकार लगाई है. ट्विटर पर गूगल के ख़िलाफ नाराज़गी जताते हुए लोगों ने सलाह दी है कि गूगल को भारत विरोधी एजेंडे में शामिल नहीं होना चाहिए.

दरअसल कुछ अलगाववादी सिख संगठन भारत से अलग पंजाब की मांग कर रहे हैं. वो भारत के ख़िलाफ दुनियाभर में सोशल मीडिया के जरिए दुष्प्रचार करने की कोशिश कर रहे हैं कि साल 2020 में एक जनमत संग्रह (Referendum) होगा, जिससे तय होना है कि सिखों को एक अलग देश मिलना चाहिए या नहीं. इसी मुहिम का नाम इन संगठनों ने '2020 सिख रेफरेंडम' रखा है.

गूगल प्ले स्टोर में '2020 सिख रेफरेंडम' ऐप एक फ्री है. इस ऐप के माध्यम से लोगों को भारत के खिलाफ चल रहे कैंपेन में जोड़ा जा रहा है. यह ऐप दुनिया के करीब 27 देशों में उपलब्ध है, जिनमें पाकिस्तान (Pakistan), अमेरिका (USA), यूनाइटेड किंगडम (UK), कनाडा (Canada) और आस्ट्रेलिया (Australia) जैसे देश भी शामिल हैं.

आपको बता दें इससे पहले भारत सरकार ने 17 जुलाई 2019 को 'सिक्ख फॉर जस्टिस' (Sikhs for Justice) संगठन को भारत विरोध गतिविधियां चलाने के लिए बैन कर चुकी है. 

आपको जानकर हैरानी होगी कि एक बार पहले भी गूगल को ऐसी ही एक भारत विरोधी ऐप के चक्कर में फजीहत झेलनी पड़ी थी. गूगल प्ले स्टोर पर 'होली वार अगेंस्ट इंडिया' (Holy War Against India) नाम की ऐप थी जो कि एक किताब 'ग़जवा-ए-हिंद' (Ghazwa-e-Hind) का अंग्रेजी (English) में अनुवाद करके डाउनलोड करने के लिए थी. इस ऐप का इस्लाम जुड़ा बताया जा रहा था का और ऐसा दावा किया जा रहा था कि एक दिन भारत पर इस्लामिक सेनाएं कब्जा कर लेंगी