close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रेल यात्रियों को फेंकी गई बोतलों में बेचा जा रहा गंदा पानी, शुरू हुआ ऑपरेशन प्यास

'ऑपरेशन प्यास' के तहत देश के लगभग सभी रेलवे जोन पर आरपीएफ ने छापेमारी की, जिसमें इस तरह नकली पानी बेचने वालों को रंगे हाथ गिरफ्तार किया.

रेल यात्रियों को फेंकी गई बोतलों में बेचा जा रहा गंदा पानी, शुरू हुआ ऑपरेशन प्यास
रेल नीर की उपलब्धता नहीं होने पर जोन अधिकृत पानी ही बेचा जाएगा. File photo

नई दिल्ली: रेल सुरक्षा एजेंसी आरपीएफ को लगातार शिकायत मिल रही थी कि रेलवे प्लेटफॉर्म से लेकर ट्रेनों के भीतर तक नकली ब्रैंड की बोतलों में घटिया क्वालिटी का पानी बेचा जा रहा है. यही नहीं रेल यात्रियों द्वारा फेंकी गई पानी की बोतलों को भी दोबारा भरकर रेल मुसाफिरों को बेचा जा रहा है. इसके बाद आरपीएफ ने देश भर में ऑपरेशन प्यास या फिर 'ऑपरेशन थर्स्ट' को अंजाम दिया.

'ऑपरेशन प्यास' के तहत देश के लगभग सभी रेलवे जोन पर आरपीएफ ने छापेमारी की, जिसमें इस तरह नकली पानी बेचने वालों को रंगे हाथ गिरफ्तार किया. रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स (RPF) ने कार्रवाई करते हुए 1371 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया और 69,000 बोतलों को जब्त किया है. मुहिम 'ऑपरेशन थर्स्ट' की शुरुआत 8-9 जुलाई को की गई. उल्लंघन करने वालों पर 6,80,855 रुपये का जुर्माना लगाया गया है.

ज़ी मीडिया से बात करते हुए डीजी आरपीएफ अरुण कुमार ने बताया कि पानी के इस धंधे को बाकायदा संगठित तरीके से चलाया जा रहा था, जिसमे ट्रेनों में मौजूद पैंट्री मैनेजर समेत रेलवे स्टेशन प्लैटफॉर्म पर मौजूद स्टॉल या दुकानदार भी शामिल हैं. इस कार्रवाई में गिरफ्तार किए गए लोगों में 4 पैंट्री कार मैनेजर शामिल हैं. रेलवे स्टेशनों के कई स्टालों को अनधिकृत ब्रांडों के पेयजल की बोतलों को पैक कर बेचते पाया गया है.

बता दें कि रेलवे स्टेशन या फिर ट्रेनों में रेलवे का पानी रेल नीर ही बेचा जा सकता है. रेल नीर की उपलब्धता नहीं होने पर जोन अधिकृत पानी ही बेचा जाएगा. लेकिन रेलवे में लंबे अरसे से चले आ रहे इस जानलेवा खेल के एक बार फिर सामने आने के बाद इंडियन रेलवे (Indian Railway) ने सभी प्रमुख रेलवे स्‍टेशनों पर अनाधिकृत पेयजल के ब्रांडों की बिक्री पर रोक लगाने का फैसला किया है. भ्रष्टाचार की जड़ तक जाने के इरादे के साथ विशेष मुहिम में प्रिंसिपल चीफ सिक्युरिटी कमिश्नर लगातार कार्रवाई करेंगे.

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के कमर्शियल इंस्पेक्टर ने आदेश जारी किया है. इसमें तय हुआ है कि अगर वेंडर के पास अनाधिकृत ब्रांड वाला पानी मिलता है तो उसे मुफ्त में यात्रियों को बांट दिया जाएगा. आदेश की कॉपी सभी स्टॉलों पर चिपका दी गई है. इसके मुताबिक रेल नीर और अन्य 6 मंजूर ब्रांड का पानी ही बेच सकते हैं. बिलासपुर मंडल के वाणिज्य विभाग ने यह नियम 1 माह पहले जारी किया था.

रेलवे ने अपने सभी जोनल प्रिंसिपल चीफ सिक्युरिटी कमिश्नरों (PCSC) को अनधिकृत पैक पेयजल ब्रांडों की बिक्री पर कार्रवाई करने को कहा है. अगर कोई वेंडर अनाधिकृत ब्रांड का पानी बेचते हुए दिखाई देता है तो उस पर जुर्माना लगाया जाए और कार्रवाई हो.