close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अब बिना पहचान पत्र भी उड़ सकेंगे हवाई जहाज में, सरकार शुरू करेगी DIGI यात्रा स्कीम

दिसंबर 2019 से बिना पहचान पत्र भी हवाई यात्रा की जा सकेगी. सरकार ‘ई-बोर्डिंग’ शुरू करने जा रही है. अब बायोमीट्रिक से मिलेंगे फ्लाईट टिकट.

अब बिना पहचान पत्र भी उड़ सकेंगे हवाई जहाज में, सरकार शुरू करेगी DIGI यात्रा स्कीम

नई दिल्ली: आने वाले दिनों में हवाई यात्रा के दौरान अगर आप अपना पहचान पत्र घर पर भूल भी जाएं, तो भी आप फ्लाईट से यात्रा कर पाएंगे. केन्द्र सरकार दिसंबर, 2019 से DIGI यात्रा की शुरुआत करने जा रही है. DGCA ने इसे ई-बोर्डिंग प्रक्रिया बता सभी स्टेकहोल्डर से सुझाव मांगे हैं. यह जानकारी नागरिक उडड्यन मंत्रालय ने आज लोकसभा में दी.

प्रस्तावित DIGI यात्रा स्कीम के तहत आपको सिर्फ एक बार बायोमीट्रिक कराना होगा और फिर उसके बाद से आपको किसी भी हवाई यात्रा के लिए पहचान पत्र साथ लेकर चलने की आवश्यकता नहीं होगी. टिकट बुक करते हुए भी अब आपको टिकट की हार्ड या सॉफ्ट कॉपी की आवश्यकता नहीं होगी, सब कुछ DIGI यात्रा स्कीम में ई-बोर्डिंग की प्रक्रिया के तहत होगा. सरकार ने लोकसभा में बताया कि इस बायोमीट्रिक के लिए आधार कार्ड को अनिवार्य नहीं बनाया गया. आधार को विकल्प के तौर पर ज़रूर रखा गया है. हालाँकि अभी इस DIGI यात्रा का पूरा प्रारूप सार्वजनिक होना बाकी है, जिसके लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने सभी से सुझाव माँगे हैं.

इस योजना के मुताबिक आपको सिर्फ एक बार अपने आप को Enroll करना होगा और फिर देश भर में आपकी हवाई यात्रा सुगम और सरल हो जाएगी. पहले चरण में देश के बड़े हवाई अड्डों पर DIGI यात्रा या E-Boarding लागू करने की तैयारी है. मुम्बई, दिल्ली, वाराणसी, हैदराबाद, विजयवाड़ा, बेंगलूरू, कोचि, पुणे और कोलकाता को चुना गया है.

आपको बता दें केन्द्र की मोदी सरकार हवाई यात्रा को आम नागरिक तक पहुंचाने का दावा करती रही है. पीएम कई बार अपने भाषणों में यह कह चुके हैं कि अब देश में हवाई चप्पल वाला व्यक्ति भी अब हवाई यात्रा कर रहा है. इसीलिए एक तरफ जहां लगातार हवाई यात्रा के नियमों को सरल बनाया जा रहा है तो वहीं दूसरी तरफ छोटे शहरों को बड़ों शहरों से फ्लाईट के माध्यम से जोड़ा भी जा रहा है. इसके लिए केन्द्र सरकार ने RCS यानि रीज़नल कनेक्टिविटी स्कीम की शुरूआत की है. जिसमें कई छोटे शहरों को पहली बार उड़ान अभियान से जोड़ा गया है.